zakir-naik-ats-2006

जाकिर नाइक से 2006 में महाराष्ट्र ATS कर चुकी है पूछताछ!

जाकिर नाइक से 2006 में महाराष्ट्र ATS कर चुकी है पूछताछ!

जिस जाकिर नाइक को लेकर आज ये बहस हो रही है कि आतंकी संगठन जमात उद दावा के वेबसाइट पर उसकी संस्था IRF का लिंक क्यों है? जिस जाकिर नाइक को लेकर ये सवाल किये जा रहे हैं कि हाफिज सईद से उसके क्या संबंध हैं? जिस जाकिर नाइक का विरोध कई मुस्लिम संगठन भी कर रहे हैं और उसपर प्रतिबंध लगाने की मांग कर रहे हैं, दरअसल उस जाकिर नाईक से महाराष्ट्र ATS औरंगाबाद में मिले हथियारों के जखीरे के संबंध में 2006 में पूछताछ कर चुकी है।

महाराष्ट्र ATS ने 2006 में जाकिर नाइक की संस्था इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन यानि IRF में लाइब्रेरियन रहे फिरोज देशमुख को गिरफ्तार किया था। क्योंकि फिरोज का संबंध औरंगाबाद में बरामद किये गए हथियारों से जुड़ता दिख रहा था। ATS को फिरोज पर हथियार रखने का भी शक था। उस वक्त महाराष्ट्र ATS के प्रमुख रहे केपी रघुवंशी ने जाकिर के इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन की जांच भी की थी। इसी सिलसिले में जाकिर से भी ATS ने पूछताछ की थी। लेकिन सबूतों के अभाव में जाकिर के लाइब्रेरियन फिरोज को बाद में ATS ने छोड़ दिया था।

इस तरह की बात सामने आने के बाद अब उन केबल ऑपरेटरों के लाइसेंस रद्द करने की तैयारी की जा रही है जिन्होंने भारत में पीस टीवी का प्रसारण किया। पीस टीवी जाकिर नाइक का टीवी चैनल है। जिसपर वो अपनी तकरीरें प्रसारित करता है। लेकिन भारत में पीस टीवी दिखाने पर पाबंदी है। इसे लेकर सूचना मंत्रालय ने एक एडवाइजरी भी तैयार की है। जिसे सभी केबल ऑपरेटरों को भेजा जाएगा। वहीं गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि ‘जांच के बाद उचित कार्रवाई की जाएगी। आतंकवाद से जुड़े मुद्दे पर कोई समझोता नहीं किया जाएगा।‘

Loading...

Leave a Reply