दिल्ली मेट्रो में चोरनियों का बड़ा गैंग पकड़ा गया, 25 लाख रुपये और गहने बरामद

नई दिल्ली:  दिल्ली मेट्रो में अगर आप सफर कर रहे हैं तो जरा सावधान रहें। क्योंकि यहां मुसीबत किसी भी रूप में आपके सामने आ सकती है। हो सकता है आपको ये लग रहा हो कि आपने किसी को बड़ी मुसीबत में मदद की है, लेकिन आपकी वो मदद आपको ही भारी पड़ सकती है। क्योंकि चोरिनियों के गैंग ने जो खुलासा किया है उससे यही पता चला है कि बीमारी का बहाना बनाकर पहले ये अपने शिकार को जाल में फंसाती थी उसके बाद उसका कीमती सामान लेकर गायब हो जाती थीं।

पुलिस ने दो ऐसे गैंग के सदस्यों को गिरफ्तार किया है जो दिल्ली मेट्रो में अपना शिकार तलाश करती थीं और मौका मिलते ही कीमती सामान पर हाथ साफ कर जाती थीं। इनकी गतिविधि ज्यादातर महिला कोच के आसापास या महिला कोच में होती थी।

पुलिस के मुताबिक गैंग में 3 से 10 महिलाओं का ग्रुप एक साथ काम करता है। उनपर किसी तरह का शक ना हो इसके लिए वो बच्चे को भी अपने साथ रखती हैं। वो भीड़ का फायदा उठाकर अपने शिकार के पास जाती हैं और उनके कीमती सामान पर हाथ साफ कर देती हैं। इसके बाद वो सामान को दूसरी महिला को दे देती है। ताकि उसपर किसी तरह का शक ना हो।

पुलिस की नजरों से बचने लिए वारदात के बाद ये अलग अलग स्टेशनों पर एक-एक कर उतरती हैं। चोरी के ज्यादातर मामले इंटरचेंज वाले स्टेशन पर सामने आए हैं। इनमें राजीव चौक और कश्मीरी गेट शामिल हैं।

ग्रुप में शामिल महिलाएं पहले अपने शिकार को घेरती हैं। फिर उनमें से कोई बेहोश होने का नाटक करता है। जब बेहोशी का नाटक कर रही महिला की मदद के लिए अनजान शख्स आगे बढ़ता है तो भीड़ का फायदा उठाकर उसके साथ की दूसरी महिलाएं मदद करनेवाले का कीमती सामान उड़ा ले जाती हैं।

इस गिरोह में शामिल महिलाएं कई बार छोटे बच्चे को भी अपने साथ रखती हैं। और दूध पिलाने का बहाना कर उसके ऊपर कपड़ा ढक देती हैं। भीड़ में से जब ये किसी के सामान पर हाथ साफ करती हैं तो उसे इस कपड़े के भीतर छिपाकर गायब हो जाती हैं। पुलिस ने उन दो महिलाओं को भी गिरफ्तार किया है जो हाल ही में इस गिरोह में शामिल हुई थीं।

इनकी उम्र 22 और 25 साल है। इन्हें 30 साल की लक्ष्मी नाम की महिला ने ट्रेनिंग दी थी। इनके पास से 15 लाख के गहने बरामद किये गए हैं। ये सभी दिल्ली में कठपुतली कॉलोनी में रहती हैं। लक्ष्मी ने 10 महिलाओं का गिरोह तैयार किया था। शुक्रवार को गुरविंदर सिंह ने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई थी कि उनकी जूलरी चोरी हुई है। जिसके बाद पुलिस मेट्रो में लगे सीसीटीवी फुटेज के आधार पर जांच शुरु की। जिसके ये नतीजा निकलकर सामने आया। ये महिलाएं महाराष्ट्र की रहनेवाली हैं। कोई कान ना होने की वजह से ये चोरी की वारदात को अंजाम देती हैं। मेट्रो पुलिस में पिछले साल इस तरह के 11 हजार एफआईआर दर्ज करवाए गए हैं। जनवरी 2018 में इस तरह के 817 मामले दर्ज किये गए हैं।

Loading...