tajinder-pal-ramjethmalani-and-kejriwal

बीजेपी का सवाल- केजरीवाल ने जनता के पैसे से जेठमलानी की फीस क्यों चुकाई?

बीजेपी का सवाल- केजरीवाल ने जनता के पैसे से जेठमलानी की फीस क्यों चुकाई?

नई दिल्ली: वित्त मंत्री अरुण जेटली और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के बीच मानहानि के केस में जेठमलानी को चुकाई गई फीस पर केजरीवाल की मुश्किल बढ़ सकती है। बीजेपी की तरफ से इसे लेकर दो चिट्ठी जारी किये गए हैं। जिसमें बताया गया है कि जेठमलानी को अबतक 3 करोड़ 86 लाख रुपये का भुगतान किया जा चुका है। चिट्टी में सवाल किया गया है कि जब केस अरविंद केजरीवाल पर किया गया था तो दिल्ली सरकार ने उसका भुगतान क्यों किया। जनता के टैक्स के पैसे को जेठमलानी की फीस देने में इस्तेमाल क्यों किया गया।

अरुण जेटली-केजरीवाल मानहानि केस में जेठमलानी केजरीवाल का केस लड़ रहे हैं। जब विवाद बढ़ा तो इस मामले में जेठमलानी ने कहा हम केवल अमीरों से पैसे लेते हैं। मैं केजरीवाल का केस मुफ्त में लड़ने के लिए तैयार हूं। वहीं इस मामले पर दिल्ली के डिप्ट सीएम मनीष सिसोदिया ने कहा कि केजरीवाल के सीएम रहते उनपर मानहानि का केस किया गया इसलिए सरकार ने वकील की फीस चुकाई।


इस मामले ने तूल तब पकड़ा जब दिल्ली बीजेपी के प्रवक्ता तेजिंदर पाल एस बग्गा ने अपने ट्वीटर पर दो चिट्ठियां पेश की। जिसमें उन्होंने जेठमलानी को करोड़ों रुपये फीस देने का आरोप लगाया है। बग्गा ने दो चिट्ठी जारी की है।

पहली चिट्टी जेठमलानी के सेक्रेटरी की तरफ से दिल्ली के सीएम के सचिव को लिखी गई है। जिसमें कहा गया है रामजेठमलानी को वकील के तौर पर नियुक्त करने की रिटेनरशिप फीस एक करोड़ है। साथ ही कोर्ट की हर सुनवाई के लिए 22 लाख रुपये देने होंगे।

दूसरी चिट्ठी एक फाइल के कागज हैं। जिसमें दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने लिखा है जैसे-जैसे जेठमलानी की तरफ से बिल आते रहें, उन्हें भुगतान कर दिया जाए और ये फाइल उप राज्यपाल अनिल बैजल के पास मंजूरी के लिए न भेजी जाए।

ये भी पढें :

– 36 घंटे में ही मोदी की अपील का असर सेना में भर्ती होने पहुंचे 20 हजार कश्मीरी युवा

आरोप में कहा गया है कि जेठमलानी अबतक जेटील-केजरीवाल मानहानि केस में 13 बार अदालत में पेश हो चुके हैं। 22 लाख के हिसाब से उन्हें अबतक तीन करोड़ 86 लाख रुपये दिये जा चुके हैं। ये पैसे जनता के टैक्स के पैसे से दिये गए हैं।

ये भी पढें :

– बीजेपी नेता यशवंत सिन्हा हजारीबाग में हिरासत में लिये गए

दरअसल आम आदमी पार्टी की तरफ से केंद्रीय मंत्री और पूर्व डीडीसीए अध्यक्ष अरुण जेटली पर आरोप लगाए गए थे कि उन्होंने डीडीसीएम में करोड़ों की गड़बड़ी की है। जिसके बाद अरुण जेटली की तरफ दिसंबर 2015 में दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल, कुमार विश्वास, आशुतोष, संजय सिंह, राघव चड्ढा और दीपक वाजपेयी के खिलाफ 10 करोड़ की मानहानि का केस दर्ज कराया गया। जेटली ने दावा किया था कि जिस तरह के आरोप AAP की तरफ से लगाए गए हैं उससे उनके उनकी प्रतिष्ठा को नुकसान हुआ है।

Loading...

Leave a Reply