चार हफ्तों के लिए विजय माल्या का पासपोर्ट सस्पेंड

चार हफ्तों के लिए विजय माल्या का पासपोर्ट सस्पेंड

विवादों में घिरे कारोबारी विजय माल्या का पासपोर्ट चार हफ्ते के लिए सस्पेंड कर दिया है। माल्या पर बैंकों से कर्ज लेकर उसे न चुकाने का आरोप है। फिलहाल माल्या देश से बाहर सात समंदर पार हैं। माल्या पर बैंकों का 9432 करोड़ का कर्ज है। यही नहीं मनी लॉन्ड्रिंग के मामले मे भी प्रवर्तन निदेशालय माल्या की तलाश में है। कार्रवाई और जांच आगे बढ़ाने, नतीजे तक पहुंचने के लिए जरुरी है कि माल्या से पूछताछ की जाए लेकिन ये तभी संभव है जब माल्या भारत में रहें। प्रवर्तन निदेशाल ने कई बार मल्या को पेश होने के लिए कहा लेकिन उनके वकील की तरफ से हर बार वक्त की मांग की गई। इसी वजह से प्रवर्तन निदेशालय ने विदेश मंत्रालय से माल्या के पासपोर्ट को 4 हफ्ते लिए सस्पेंड करने की अपील की थी। माल्या को ये भी पूछा गया है कि क्यों ने उनके पासपोर्ट को रद्द कर दिया जाए। चार हफ्तों में माल्या को अपने जवाब से सरकार को संतुष्ट करना है। बैंकों का कर्ज चुकाने में नाकाम रहे माल्या अगर अपने जवाब से सरकार को संतुष्ट नहीं कर पाते हैं तो उनका पासपोर्ट रद्द किया जा सकता है। यही नहीं माल्या के प्रत्यर्पण के लिए भी कदम उठाए जा सकते हैं। केवल बैंकों के पैसे लेकर ही फरार नहीं हैं माल्या उनके खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का मामला भी चल रहा है। जिसमें उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी हो सकती है। यानि कुल मिलाकर आनेवाले दिनों में माल्या की मिश्किल बढ़ सकती है। स्टेट बैंक ऑफ इडिया समेत पब्लिक सेक्टर की 13 बैंक माल्या को कर्ज के रुप मे दिये हुए पैसे वसूलने के लिए हर मुमकिन कोशिश कर रही हैं। प्रवर्तन निदेशालय के सूत्रों के मुताबिक भारत में तकरीबन चार हजार करोड़ रुपये की संपत्ति माल्या या उनके परिवार के नाम है। जानकारी ये भी है कि इस संपत्ति का बाजार भाव इससे भी ज्यादा हो सकता है। यानि कर्ज वसूली का एक विकल्प ये भी है की उनकी संपत्ति नीलाम कर कर्ज की वसूली की जाए।

Loading...

Leave a Reply