वेंकैया नायडू बनेंगे देश के 15वें उपराष्ट्रपति

नई दिल्ली: उपराष्ट्रपति चुनाव में बीजेपी उम्मीदवार वेंकैया नायडू को जीत मिली है। वो देश के 15वें उपराष्ट्रपति बनेंगे। वेंकैया नायडू को 516 वोट मिले। वेंकैया का मुकाबला कांग्रेस के गोपाल कृष्ण गांधी से था। गांधी को 244 वोट मिले। हलांकि चुनाव के नतीजे आने से पहले ही वेंकैया नायडू की जीत तय मनी जा रही थी। उपराष्ट्रपति चुनाव में कुल 771 वोट डाले गए।
वेंकैया नायडू की गिनती देश के कद्दावर नेता में होती है। उनका जन्म आंध्र प्रदेश के नेल्लूर जिले में हुआ था। उनके पिता किसान थे। उनका बचपन बेहद गरीबी में बीता था। जब नायडू केवल डेढ़ साल के थे तब उनकी मां का देहांत हो गया था। उप राष्ट्रपति चुनाव के लिए पर्चा भरने के बाद भी उन्होंने अपनी मां का जिक्र किया था। और वो भावुक हो गए थे।

नायडू की जीत पर प्रधानमंत्री ने ट्वीट पर बधाई दी। पीएम मोदी ने लिखा कि राष्ट्र निर्माण में उनका योगदान था। वेंकैया के साथ काम करना सौभाग्य की बात है।

वेंकैया नायडू 40 साल से राजनीति में सक्रिय हैं। उन्होंने कानून की पढ़ाई भी की है। संघ से उनका पुराना नाता रहा है। कानून की पढ़ाई के दौरान ही नायडू छात्र राजनीति से जुड़े। और संघ की शाखा से जुड़े। 1993 में बीजेपी राष्ट्रीय महासचिव के तौर पर उनकी एंट्री दिल्ली में हुई। उन्होंने तीन बार लोकसभा चुनाव लड़े लेकिन एकबार भी उन्हें जीत नहीं मिली। 2002 से 2004 तक नायडू बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी रहे।
नायडु के दो बच्चे हैं लेकिन दोनों राजनीति से दूर रहे हैं। उन्होंने अपने परिवार के लिए कभी भी राजनीति में रास्ता तैयार नहीं किया। क्योंकि वो परिवारवाद की राजनीति में यकीन नहीं करते।

Loading...