masood-azhar-terrorest

भारत की कूटनीतिक कामयाबी, US ने UN में आतंकी मसूद अजहर पर बैन की मांग की

भारत की कूटनीतिक कामयाबी, US ने UN में आतंकी मसूद अजहर पर बैन की मांग की




नई दिल्ली: आतंक के खिलाफ लड़ाई में भारत को बड़ी कामयाबी मिली है। अमेरिका ने संयुक्त राष्ट्र में जैश-ए-मोहम्मद के सरगना आतंकी मसूद अजहर पर बैन लागाने की मांग की है। भारत लंबे वक्त से पठानकोट हमले का मास्टरमाइंड मसूद अजहर पर प्रतिबंध की मांग करता रहा है। लेकिन चीन इस रास्ते में सबसे बड़ा अडंगा है। चीन के रुख से ये संदेश जा रहा है कि उसकी नजर में मसूद अजहर आतंकी नहीं है।

चीन ने अमेरिका के भी इस रुख का विरोध किया है। इससे पहले चीन ने संयुक्त राष्ट्र में वीटो का इस्तेमाल कर मसूद अजहर पर बैन का विरोध किया था। जिस वजह से भारत की कोशिशों को दो बार झटका लग चुका है। यही नहीं इसके बाद ये मामला ठंडे बस्ते में चला गया था। क्योंकि नियम के मुताबिक जबतक संयुक्त राष्ट्र में 15 देशों के सदस्य वाली सुरक्षा परिषद का कोई सदस्य फिर से मसूद पर बैन का प्रस्ताव नहीं लाता।

अमेरिका सुरक्षा परिषद के 5 स्थाई सदस्यों में से एक है। अमेरिका ने फ्रांस और ब्रिटेन के समर्थन से सुरक्षा परिषद की प्रतिबंध कमेटी के सामने एक प्रस्ताव पेश किया है। अपने प्रस्ताव में अमेरिका ने मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करते हुए उसपर बैन की मांग की है।

हलांकि मसूद अजहर को लेकर चीन के अड़ियल रवैये में कोई बदलाव होता हुआ नहीं दिख रहा है। सूत्रों के मुताबिक चीन ने इस प्रस्ताव को दोबारा होल्ड कर दिया है। सिक्यॉरिटी काउंसिल के 5 स्थाई सदस्यों में से केवल चीन ही मसूद अजहर को आतंकी घोषित करने का विरोध कर रहा है। हलांकि उसके संगठन जैश –ए- मोहम्मद पर यूएन पहले ही बैन लगा चुका है।

Loading...

Leave a Reply