पाकिस्तान बेनकाब: पठानकोट हमले में अमेरिका ने सौंपा 1000 पन्नों का डोजियर

दिल्ली: पठानकोट हमले में पाकिस्तान के खिलाफ अमेरिका ने 1000 पन्नों का डोजियर NIA को सौंपा है। अमेरिका के इस डोजियर से पठानकोट हमले में पाकिस्तान के शामिल होने की भारत की दलली को बल मिलेगा। डोजियर में काफी अहम जानकारी दी गई है।

एक अंगरेजी अखबार में छपी खबर के मुताबिक डोजियर में पठानकोट हमले में जैश-ए-मोहम्मद के सरगना कासिफ जान और हमले में शामिल चार फिदायीनों के बीच बातचीत के रिकॉर्ड भी हैं। इससे एक बात साफ है कि पठानकोट में भी 2008 में मुंबई में हुए हमले की तरह ही आतंकियों की रणनिति थी। पठानकोट में भी आतंकियों को पाकिस्तान से निर्देश मिल रहे थे।

अमेरिकी डोजियर में कहा गया है कि जैश-ए- मोहम्मद के चारो फिदायीन जिसमें पाकिस्तान के पंजाब का नासिर हुसैन, गुजरांवाला का अबू बकर और सिंध प्रांत का उमर फारुख और अब्दुल कयूम हमले के बाद 80 घंटे तक पाकिस्तान में बैठे अपने आकाओं के संपर्क में था।

अमेरिका ने NIA को म्यूचुअल लीगल असिस्टेंस ट्रीटी यानी MLAT के तहत इस तरह की जानकारियां सौंपी है। NIA की जांच में अबतक जो बात निकलकर सामने आई है उसके मुताबिक वॉट्सएप पर बातचीत के अलावे कासिम जान फेसबुक अकाउंट भी चला रहा था। फेसबुक अखाउंट भी उसी नंबर से जुड़ा था जिससे हमलावरों ने एसपी सलविंदर सिंह का अपहरण करते वक्त पठानकोट से कॉल किया था। इसके अलावे मुल्ला दादुल्ला के फेसबुक अकाउंट से जुड़े नंबर से भी आतंकियों ने पाकिस्तान फोन किया था। इन्हें पाकिस्तान की ‘टेलिकॉम फर्म टेलेनॉर एंड टेलेनॉर पाकिस्तान कम्युनिकेशंस कंपनी लिमिटेड, इस्लामाबाद’ के आईपी एड्रेस से एक्सेस किया जा रहा था।

Loading...

Leave a Reply