तमिलनाडु: पहली बार किसी विधानसभा में हुई ये तीन बेहद शर्मनाक बातें




नई दिल्ली: शनिवार 18 फरवरी 2017 तमिलनाडु विधानसभा के लिए Black Day साबित हुआ। इस दिन सदन के भीतर केवल विधायकों ने हंगामा ही नहीं किया बल्कि शर्म की हर उस लकीर को पार कर गए जिसके आगे शर्म भी खुद को कलंकित महसूस कर रहा है। लोकतंत्र में जनता के प्रतिनिधि केवल सत्ता के स्वार्थ के लिए इस हद तक नीचे गिर सकते हैं इसका अंदाजा नहीं था दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश को।

तमिलनाडु विधानसभा में पलनिस्वामी के शक्ति परीक्षण के दौरान विपक्षी विधायकों ने जमकर हंगामा शुरु किया। इसमें खासकर DMK के विधायक ज्यादा ही उत्तेजित थे। अपनी इसी उत्तेजना में उन्होंने अपनी मर्यादा को नीलाम कर दिया। DMK विधायक सीक्रेट वोटिंग की मांग कर रहे थे। लेकिन उनकी इस मांग को स्पीकर ने खारिज कर दिया।

इसके बाद जोरदार हंगामा शुरु हुआ। इसी हंगामे में तीन बातें ऐसी हुई जो आजतक इस लोकतांत्रिक देश के किसी विधानसभा में नहीं हुई थी।

  1. विधायकों ने स्पीकर ओ.धनपाल के साथ जमकर धक्कामुक्की की। उनकी शर्ट भी फाड़ दी।
  2. दो-दो DMK विधायक उनकी कुर्सी पर जाकर बैठ गए। बाद में मार्शल ने घेरा बनाकर किसी तरह स्पीकर को बाहर निकाला। विधायकों ने स्पीकर के सामने की मेज भी तोड़ डाली।
  3. स्पीकर को DMK विधायकों को बाहर निकालने के लिए असेंबली कैंपस में पुलिस बुलानी पड़ी।

इसी तमिलनाडु विधानसभा में 28 साल पहले जयललिता का चीर हरण हुआ था। तब एमजी रामचंद्रण के निधन के बाद जयललिता सदन में विपक्ष की नेता बनी थीं। और तब सीएम DMK के एम करुणानिधी थे। 1989 के 25 मार्च को विधानसभा में DMK और AIADMK विधायकों के बीच जमकर मारपीट हुई। इसी दौरान जयललिता की साड़ी खींची गई और उसे फाड़ दिया गया था। इस घटना का जिक्र खुद जयललिता इसी विधानसभा में किया था। उन्होंने कहा था उस दिन सदन में DMK नेताओं ने उनकी साड़ी खींची थी।

Loading...