इन शब्दों का मतलब समझेंगे तो बजट को समझना आसान हो जाएगा

नई दिल्ली:  मोदी सरकार अपना आखिरी आम बजट पेश कर रही है। वित्त मंत्री अरुण जेटली पांचवी बार बजट पेश कर रहे हैं। बजट पेश करने के दौरान कई शब्द ऐसे होते हैं जिनके मतलब को समझने में मुश्किल आती है। और मतलब पता नहीं होने की वजह से बजट समझ में नहीं आता। यहां ऐसे ही कुछ शब्दों के बारे में जनकारी दी जा रही है।

बजट से जुड़े कुछ शब्द

डायरेक्ट टैक्स:  ये वो टैक्स होता है जो किसी भी व्यक्ति या संस्थान की आय, संस्थानों की आय और उसके स्रोत पर लगता है। इनकम टैक्स, कॉर्पोरेट टैक्स, कैपिटल गेन टैक्स और इनहेरिटेंस टैक्स इस कैटेगरी में आते हैं।

इनडायरेक्ट टैक्स:  उत्पादित वस्तुओं पर लगनेवाला टैक्स को इनडायरेक्ट टैक्स कहा जाता है। इसके अलावे यह आयात-निर्यात वाले सामान पर उत्पाद शुल्क, सीमा शुक्ल और सेवा शुल्क के जरिये भी लगाया जाता है।

जीडीपी: इसे सकल घरेलू उत्पाद भी कहा जाता है। जीडीपी एक वित्त वर्ष के दौरान देश के भीतर कुल वस्तुओं के उत्पादन और देश में दी जानेवाली सेवाओं का टोटल होता है।

बजट घाटा:  जब सरकार के आमदनी यानि राजस्व से ज्यादा खर्चा हो जाता है तो उसके बाद बनने वाली स्थिति को बजट घाटा कहा जाता है।

राजकोषीय घाटा:  राजकोषीय घाटा सरकार के कुल खर्च औ कुल राजस्व के बीच का फर्क है। इससे सरकार को यह तय करने में मदद मिलती है कि उसे कितने कर्ज की जरूरत है।

उत्पाद शुल्क:  एक्साइज ड्यूटी या अत्पाद शुल्क वह शुल्क है जो देश के भीतर बनने वाले उत्पादों पर लगाया जाता है। यह कस्टम ड्यूटी से अलग होता है। कस्टम ड्यूटी के बाहर से आने वाले उत्पादों पर लगाया जाता है। यह उत्पाद के प्रोडक्शन और खरीद पर लगता है।

कस्टम ड्यूटी: देश में आयात होनेवाली वस्तुओं पर सीमा शुल्क या कस्टम ड्यूटी लगाई जाती है।

बैलेंस ऑफ पेमेंट: देश और दुनिया के के अन्य देशों के साथ सरकार का जो भी वित्तीय लेनदेन होता है उसे ही बैलेंस ऑफ पेमेंट कहा जाता है।

आयकर:  बजट जब पेश किया जा हा होता है तो लोगों का सबसे ज्यादा ध्यान बजट के इसी हिस्से पर होता है। दरअसल यह आपकी और हमारी आय से सीधे तौर पर जुड़ा होता है। आय के श्रोत में आपकी आमदनी, निवेश और उसपर लगनेवाला ब्याज भी इसमें शामिल होता है।

बॉन्ड:  सरकार को जब पैसों की जरूरत होती है तो वो बॉन्ड जारी करती है। यह एक तरह का कर्ज के बदले दिया जानेवाला सर्टिफिकेट होता है।

Loading...