25 दिसंबर को इस app को लॉन्च कर मोदी विरोधियों को देंगे करारा जवाब




नई दिल्ली: डिजिटल पेमेंट की दिशा में मोदी सरकार एक क्रांतिकारी शुरुआत करने जा रही है। ये नई शुरुआत है ‘आधार पेमेंट एप। ‘ इस एप के लॉन्च होने के बाद एटीएम, डेबिट या सेल मशीनों की भी जरुरत नहीं होगी। 25 दिसंबर को इस एप को लॉन्च किया जाएगा। सबसे बड़ा फायदा ये होगा कि इसके शुरु होने के बाद कार्ड सर्विस प्रोवाइडर कंपनी जैसे मास्टरकार्ड और वीजा को दी जानेवाली फी भी नहीं देनी होगी।

इस एप के इस्तेमाल के लिए एन्ड्रॉइड फोन की जरुरत होगी। व्यापारी को आधार कैशलेस ऐप डाउनलोड करना होगा और स्मार्टफोन को बायोमीट्रिक रीडर से कनेक्ट करना होगा। बायोमीट्रिक रीडर 2000 में मिल जाता है। इसके बाद कस्टमर को एप में आधार नंबर डालकर उस बैंक का चुनाव करना होगा जिससे पेमेंट किया जाना है।

यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया के सीईओ के मुताबिक ‘यह एप किसी भी व्यक्ति द्वारा बगैर फोन के भी इस्तेमाल किया जा सकता है। अभी 40 करोड़ आधार नंबर बैंक अकाउंट से जुड़े हैं। लेकिन लक्ष्य रखा गया है कि 2017 तक सभी आधार नंबर को बैंक अकाउंट से जोड़ दिया जाए।‘

कैसे होगा पैसे का ट्रांसफर?

– मान लीजिये A एक दुकानदार है और B एक ग्राहक
– A की दुकान से B कुछ सामान खरीदता है और उसका बिल बनता है 5000 रुपये का।
– इसके बाद A अपने एन्ड्रॉइड मोबाइल फोन पर आधार पेमेंट एप (कैशलेस मर्चेंट एप) का उपयोग शुरु करता है। सबसे पहले वो B से उसका आधार नंबर मांगेगा। इस नंबर को फीड करने के बाद एप में उन बैंकों की सूची आ जाएगी जिनमें B का खाता होगा। अब B उस सूची में से बैंकों का चयन करेगा और पेमेंट की जाने वाली रकम यानि 5000 लिख देंगे।

इस प्रक्रिया को पूरा करते ही बायोमीट्रिक स्कैनर पर उंगली रखनी होगी। जो पासवर्ड के तौर पर स्वीकार की जाएगी। और पेमेंट हो जाएगा।
इस एप को UIDAI, IDFC, और नेशनल पेमेंट्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया ने मिलकर बनाया है।

Loading...

Leave a Reply