32 साल बाद ‘जब बड़ा पेड़ गिरता है, तो धरती हिलती है’ का जिक्र क्यों?

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की जयंती के मौके पर पश्चिम बंगाल कांग्रेस ने एक ऐसा ट्वीट कर दिया जिसपर विवाद शुरु हो गया। पश्चिम बंगाल कांग्रेस ने अपने ट्वीट में लिखा था ‘जब बड़ा पेड़ गिरता है तो धरती हिलती है।’ इस ट्वीट पर विवाद इसलिए शुरु हुआ क्योंकि ये एक तरह से 1984 के सिख विरोध दंगे से जुड़ा है।
west Bengal congress party
इंदिरा गांधी की हत्या के बाद उनके बेटे राजीव गांधी पर आरोप लगे थे कि उन्होंने कांग्रेस के नेताओं और कार्यकर्ताओं से कहा था ‘जब बड़ा पेड़ गिरता है तो धरती हिलती है।’ आरोप ये भी है कि इसी के बाद दिल्ली में सिख विरोधी दंगे की शुरुआत हुई। जिसमें सैकड़ों लोगों की जान चली गई थी। कई सिख परिवारों की जिंदगी भर की कमाई लूट ली गई। तो कई परिवार बेघर हो गए।
उस वक्त कांग्रेस में सक्रिय जगदीश टाइटलर, सज्जन कुमार जैसे राजीव गांधी के काफी करीबी माने जाते थे। इनपर सिख विरोधी दंगा भड़काने का आरोप लगा था। इस मामले में अभी भी केस चल रहा है। ऐसे में पश्चिम बंगाल कांग्रेस की तरफ से इस तरह के ट्वीट पर बीजेपी ने कांग्रेस पर निशाना साधा है। बीजेपी ने कहा कि इससे कांग्रेस की मानसिकता का पता चलता है। विवादित ट्वीट पर जब विवाद शुरु हुआ तो कांग्रेस ने इस ट्वीट को हटा लिया । लेकिन विवादित बोल वाले इस ट्वीट (जब बड़ा पेड़ गिरता है तो धरती हिलती है) ने 1984 के सिख विरोधी दंगे में अपनों को खो चुके उन परिजनों के दर्द को एक बार फिर कुरेद दिया है। जिस पर वक्त ने मरहम की हल्की परत लगाई थी।

Loading...