जानिये RBI के नए गवर्नर उर्जित पटेल के बारे में अहम बातें

दिल्ली: RBI के मौजूदा गवर्नर रघुराम राजन का कार्यकाल खत्म होने के बाद कौन संभालेगा उनका कामकाज इसके लिए महीनों से उस नाम की तलाश की जा रही थी। कई नामों पर विचार किया गया जिसके बाद RBI के डिप्टी गवर्नर उर्जित पटेल को रघुराम राजन की जगह RBI गवर्नर बाने का फैसला लिया गया।

  • उर्जित पटेल ने येल से अर्थशास्त्र में पीएचडी की है और ऑक्सफोर्ड से एमफिल की पढ़ाई की है
  • उर्जित पटेल इस वक्त RBI के डिप्टी गवर्नर हैं और मौद्रिक नीति प्रभारी हैं
  • भारतीय मुद्रास्फीति लक्ष्य और रेट सेटिंग पैनल के एक प्रमुख वास्तुकार माने जाते हैं
  • बोस्टन कंसल्टिंग ग्रुप और रिलायंस इंडस्ट्रीज के साथ काम कर चुके हैं

उर्जित पटेल के सामने चुनौती
महंगाई कम करने पर ध्यान देना होगा, 2017 तक महंगाई दर को 4 फीसदी पर लाने की चुनौती। 2013 में जब रघुराम राजन ने अपना कार्यभार संभाला था तब रिटेल महंगाई दर 9.42 फीसदी थी। लेकिन अप्रैल 2016 में वो घटकर 5.24 फीसदी पर आ गई। बैंकों के एनपीए को काबू में लाना होगा। इसके तहत विलफुल डिफॉलटर पर सख्ती कर लोन रिकवरी आसान बनाना शामिल है। आज स्पेशलाइज्ड बैंकों की जरुरत है। यानि ऑन डिमांड बैंकिंग सर्विस उपलब्ध हो। बैंकों की संख्या 8-10 करने की योजना। कुछ दिनों पहले ही एसबीआई ने अपने एसोसिएट बैंकों का विलय किया है। रघुराम राजन का कार्यकाल 4 सितंबर को खत्म हो रहा है। उसके बाद उर्जित पटेल आरबीआई गवर्नर का कार्यभार संभालेंगे। उर्जित का कार्यकाल तीन साल का होगा।

Loading...

Leave a Reply