AgustaWestland case sp tyagi arrested

5 मिनट में जानिये क्या है अगुस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर घोटाला?

5 मिनट में जानिये क्या है अगुस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर घोटाला?




नई दिल्ली: अगस्तावेस्टलैंड हेलिकॉप्टर घोटाला भारत की तरफ से फिनमेक्कनिका की अधीनस्थ कंपनी अगस्तावेस्टलैंड से खरीदे जा रहे हेलिकॉप्टरों से जुड़ा है। यह घोटाला 2013 में सामने आया था। इस हेलिकॉप्टर घोटाले में कई राजनेताओं और सैन्य अधिकारियों के नाम जुड़े हैं। पूर्व वायुसेना प्रमुख उन्हीं में से एक हैं। इनपर आरोप है कि इन्हीं के कहने पर हेलिकॉप्टर से जुड़े तय मानकों में बदलाव किये गए थे।

केंद्र में जब यूपीए-1 की सरकार थी और पीएम मनमोहन सिंह थे तब इटली की इस कंपनी के साथ वीवीआईपी के लिए 12 हेलिकॉप्टर खरीदने का सौदा हुआ। जिसमें से तीन हेलिकॉप्टर की डिलीवरी हो चुकी थी। जो आज भी दिल्ली के पालम एयरपोर्ट पर खड़ा है। यह सौदा 3600 करोड़ रुपये का था। इसमें से 10 फीसदी यानि 360 करोड़ रुपये की रिश्वत देने की बात सामने आई थी। इस हेलिकॉप्टर सौदे में घोटाले की आशंका सामने आने के बाद यूपीए सरकार ने फरवरी 2013 में सौदा रद्द कर दिया था।

इस मामले में पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी त्यागी समेत 13 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया था। जिस बैठक में हेलिकॉप्टर की कीमत तय की गई थी उसमें यूपीए सरकार के कुछ मंत्री भी शामिल थे। यही वजह है कि इस घोटाले की आंच यूपीए सरकार के दामन तक पहुंच रही है।

अप्रैल 2014 में इटली की एक अदालत का फैसला सामने आया। जिसमें कहा गया कि अगुस्ता सौदे में घोटाला हुआ। इसमें इटली की अदालत ने फिनमेक्कनिका को दोषी पाया। जानकारी के मुताबिक कोर्ट ने अपने आदेश में फिनमेक्कनिका की अधीनस्थ कंपनी अगस्तावेस्टलैंड के पूर्व सीईओ ब्रूनो स्पैगनोलिनि कोव भी साढ़े चार साल जेल की सजा सुनाई है। कोर्ट ने भ्रष्टाचार के मामले में ओरसी को कोर्ट से राहत देने वाले आदेश को भी बदल दिया।

एसपी त्यागी पर क्या हैं आरोप?
8 अप्रैल को इटली की मिलान कोर्ट ने 225 पेज का फैसला सुनाया था। इसके 17 पेज में पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी त्यागी की भूमिका बताई गई थी। कोर्ट के फैसले में ये साबित हो चुका था कि अगस्तावेस्टलैंड हेलिकॉप्टर डील में घोटाला हुआ और तत्कालीन वायुसेना प्रमुख एसपी त्यागी उस घोटाले में शामिल थे। आरोप ये है कि पूर्व वायुसेना प्रमुख के कहने पर ही हेलिकॉप्टर की मैक्सिमम फ्लाइंग हाइट 6000 मीटर से घटाकर 4500 मीटर की गई। इसी तरह से हेलिकॉप्टर के केबिन की ऊंचाई और उसमें लोगों के बैठने की क्षमता में भी मन मुताबिक बदलाव किये गए। मिलान कोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि त्यागी फैमिली के तीन सदस्यों को रिश्वत का पैसा पहुंचाया गया।

त्यागी के लिए बनाया गया था कोडनेम ‘गिउली’
अगस्तावेस्टलैंड हेलिकॉप्टर डील में शामिल 2 बिचौलियों ने पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी त्यागी के लिए कोडनेम बनाया था। कोडनेम में त्यागी को गिउली (खूबसूरत लड़की) कहा करते थे बिचौलिये। बातचीत की टेप से इसका खुलासा हुआ। रिपोर्ट के मुताबिक गुइडो राल्फ हाश्के और कार्लो गेरोसा त्यागी को गिउली के नाम से पुकारते थे। 25 मार्च 2012 को मिलान-माल्पेन्सा एयरपोर्ट पर हाश्के और त्यागी की मुलाकात हुई थी। रोम के लार्गो मोसा स्थित कैबिनेट हेडक्वार्टर्स की प्रिलिमनरी रिपोर्ट के मुताबिक हाश्के और गेरोसा ने 2004-07 के बीच त्यागी से 5-6 बार मुलाकात की।

Loading...

Leave a Reply