बकरीद पर सरहद पार से आतंकी हाफिज ने उगला जहर, अलगाववादियों को दिया मुबारकबाद

दिल्ली: कश्मीर में कड़े पहरे में बकरीद का त्योहार मनाया जा रहा है। हालात इतने गंभीर हैं कि बकरीद के दिन कश्मीर के 10 जिलों में कर्फ्यू लगा दिया गया है। दक्षिणी कश्मीर में सुरक्षाबलों की तैनाती बढ़ा दी गई है। बांदीपुरा में पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प में एक प्रदर्शनकारी की मौत हो गई। पुंछ में तीन दिनों से घर में छिपे आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ जारी है। इसके बीच सरहद पार से हाफिज ने घाटी के लोगों को उकसाने वाला बयान जारी किया है।

जमात उद दावा प्रमुख हाफिज सईद ने घाटी के युवाओं को उकसाते हुए कहा है कि उन्होंने जिस तरह से कश्मीर की आजादी की लड़ाई में हमारा साथ दिया है इसके लिए उनका शुक्रिया। हाफिज घाटी में मौजूद अलगाववादी नेताओं को भी ईद मुबारक कहा है। आतंकी सरगना हाफिज ने बाकायदा एक एक अलगाववादियों को नाम लेकर उन्हें संबोधित किया है। इसके बाद ये भी साफ है जाता है कि कश्मीर में हालात बिगाड़ने के लिए अलगाववादी नेता किस हद तक खतरनाक साजिश रच रहे हैं। ये इस बात के पुख्ता सबूत हैं कि सरहद पार बैठे आतंकियों को पाक सरकार मदद दे रही है और घाटी में बैठे अलगाववादी नेताओं को आतंकी संगठन समर्थन दे रहे हैं।

कश्मीर में जब हालात बेकाबू होने के बाद से ज्यादातर अलगाव वादी नेता या तो जेल में हैं या फिर वो नजरबंद हैं। राज्य सरकार भी कई बार अलगाववादियों से ये अपील कर चुकी है कि वो बच्चों को अपना ढाल बनाकर हालात को न बिगाड़ें। दूसरी तरफ केंद्र सरकार अलगाववादियों को मिलनेवाली करोड़ों रुपये की मदद में कटौती का विचार कर रही है। सरकार का ये फैसला सही भी है और इस तरह के कड़े फैसले लेने की जरुरत भी है। क्योंकि जो अलगाववादी देश के पैसे पर ऐश कर पाकिस्तानी एजेंट की तरह काम कर रहे हैं उन्हें क्यों सरकारी मदद दी जाए। बकरीद के मौके पर हाफिज सईद के नए वीडियो संदेश ने उन कयासों को पुख्ता कर दिया है जिसमें आतंकी संगठनों और अलगाववादियों के बीच साठ गांठ की बात कही जाती थी।

-Hafiz Muhammad Saeed,

 

Loading...