पुलवामा में CRPF कैंप पर बड़ा आतंकी हमला, दो जवान शहीद, गोलीबारी जारी

पुलवामा में CRPF कैंप पर बड़ा आतंकी हमला, दो जवान शहीद, गोलीबारी जारी

नई दिल्ली:  साल के आखिरी दिन जम्मू कश्मीर में आतंकियों ने बड़ा आतंकी हमला किया है। जिसमें दो जवान शहीद हो गए हैं। आतंकियों ने पुलवामा में अवंतीपुरा के लीथपोरा में सीआरपीएफ कैंप को निशाना बनाया है। सीआरपीएप ट्रेनिंग कैंप पर किये गए इस हमले में दो जवान शहीद हो गए हैं। इस फिदायीन हमले में तीन जवान जख्मी भी हुए हैं। इस हमले की जिम्मेदारी जैश ए मोहम्मद ने ली है। इस फिदायीन हमले की वजह से दक्षिण कश्मीर में इंटरनेट सेवा बद कर दी गई है। जम्मू-श्रीनगर हाइवे को भी बंद कर  दिया गया है। जिसकी वजह से हजारों गाड़ियां रास्ते में फंसी है।

धुंध और कड़ाके ठंड के बीच रविवार रात को 2 बजकर 10 मिनट पर तीन फिदायीन आतंकी पुलवामा के सीआरपीएप कैंप में घुसे। और अंधाधुंध फायरिंग शुरु कर दी। जब सीआरपीएफ जवानों की तरफ से जवाबी फायरिंग की गई तो सभी फिदायीन आतंकी ट्रेनिंग कैंप में बने बिल्डिंग में घुस गए। आतंकियों ने पहले सीआरपीएप कैंप के गेट पर ग्रेनेड से हमला किया उसके बाद अंधाधुंध फायरिंग करते हुए कैंप के भीतर घुस गए।

आतंकी जिस इमारत में घुसे वो चार मंजिला इमारत है। बताया जा रहा है आतंकी इमारत की चौथी मंजिल पर हैं। आतंकियों और सीआरपीएफ जवानों के बीच लगातार गोलीबारी जारी है। जिस बिल्डिंग में फिदायीन आतंकी घुसे हैं वहां सीआरपीएफ का एडमिनिस्ट्रेटिव ब्लॉक है। इसी बिल्डिंग में कंट्रोल रूम भी है। बताया जा रहा है जम्मू कश्मीर पुलिस कैंप पर फिदायीन हमले की पहले ही चेतावनी दी थी। जिसके बाद सीआरपीएप कैंप पर हुए फिदायीन हमले में सुरक्षा में चूक भी माना जा रहा है।

इस आतंकी हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद ने ली है। अपने संदेश में जैश की तरफ से कहा गया है कि यह फिदायीन हमला उनके कमांडर नूर त्राली की मौत का बदला लेने के लिए किया गया है। पिछले हफ्ते सुरक्षाबलों ने पुलवामा में जैश कमांडर नूर त्राली को मार गिराने में सफलता पाई थी।

Loading...