सुब्रमण्यम स्वामी फिलहाल नहीं करेंगे अरविंद सुब्रमण्यम को हटाने की मांग

सुब्रमण्यम स्वामी फिलहाल नहीं करेंगे अरविंद सुब्रमण्यम को हटाने की मांग

BJP सांसद सुब्रमण्यम स्वामी फिलहाल मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम को हटाने की मांग नहीं करेंगे। यहां फिलहाल इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि उन्होंने अरविंद सुब्रमण्यम को हटाने की मांग स्थगित किया है सदा सदा के लिए छोड़ा नहीं है। स्वामी ने कहा कि अरविंद की तरफ से अतीत में भारत को परेशानी में डालने की कोशिश करने के बावजूद अगर सरकार उन्हें देशभक्त मानती है, तो वह अरविंद को बर्खास्त किए जाने की मांग छोड़ देंगे।

सुब्रमण्यम स्वामी के रुख में ये बदलाव केंद्र सरकार और BJP की तरफ से दिये गए बयान के बाद आया है। अपने बयान में BJP और सराकर ने कहा था कि सुब्रमण्यम स्वामी ने जो कुछ कहा वो उनके निजी विचार हैं। ना ही केंद्र सरकार और ना ही BJP उन विचारों का समर्थन करती है। इसके बाद स्वामी की तरफ से कहा गया कि उन्होंने जो कहा वो पार्टी लाइन नहीं है।

subramanyam-swami
केंद्र सरकार और BJP की तरफ से बयान सामने आने के बाद स्वामी ने ट्विट किया जिसमें उन्होंने लिखा कि ‘अगर एक भारतीय जिसे कि देशभक्त माना जाता है, किसी दूसरे देश को जहां पर कि वह काम करता है यह बताए कि भारत से कैसे निपटा जाए और इस बात को माफ कर दिया जाए, तो मैं अपनी मांग स्थगित करता हूं।‘ स्वामी ने ट्विट में आगे लिखा कि ‘अगर BJP की केद्र सरकार कहती है कि हम अरविंद सुब्रमण्यम के बारे में सब जानते हैं, लेकिन फिर भी हम उन्हें अपने लिए काफी महत्वपूर्ण मानते हैं, तो मैं अपनी मांग स्थगित कर समय और घटनाओं के माध्यम से सच के साबित होने का इंतजार करुंगा।‘

दरअसल सोमवार को सुब्रमण्यम स्वामी ने अरविंद सुब्रमण्यम के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए उन्हें मुख्य आर्थिक सलाहकार के पद से बर्खास्त किये जाने कि मांग कर दी। स्वामी का आरोप था कि वित्त मत्रालय में शामिल होने से पहले जब वो अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष यानि IMF में अर्थशास्त्री थे, तब उन्होंने भारत विरोधी पक्ष का समर्थन किया था। लेकिन अपनी मांग और आरोप पर अकेले पड़ने के बाद स्वामी ने अपने रुख में नरमी लाई है। लेकिन जिस तरह से उन्होंने इंतजार करने की बात कही है उससे ये भी साफ हो गया है कि आनेवाले दिनों में जब भी मौका मिलेगा एक बार फिर एंटी अरविंद का प्रचार स्वामी शुरु करेंगे।

-Subramanyam Swami, Arvind Subramanyam, International Monetary Fund

Loading...

Leave a Reply