निर्भया गैंगरेप में SC के फैसले पर कोर्ट रुम में बजी ताली, जानिये कोर्ट ने क्या कहा

नई दिल्ली:  निर्भया गैंगरेप केस में सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट में सुनाई गई फांसी की सजा को बरकरार रखा। सुप्रीम कोर्ट में इस मामले पर शुक्रवार को 2 बजकर 3 मिनट पर कार्यवाही शुरु हुई। तीन जजों की इस बेंच ने 15 मिनट तक इस मामले में फैसला सुनाया। जिस तरह से निर्भया के साथ गैंगरेप किया गया उसे सुप्रीम कोर्ट ने बर्बर माना। निर्भया की बाद में इलाज के दौरान सिंगापुर में मौत हो गई थी।

सुप्रीम कोर्ट ने निर्भया गैंगरेप केस में फैसला सुनाते हुए इसे सदमे की सुनामी बताया । कोर्ट ने कहा इस बर्बरता के लिए माफी नहीं दी जा सकती है। कठोर सजा मिलेगी तभी समाज में भरोसा पैदा होगा। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ये ऐसा गुनाह है जिसके लिए माफी नहीं दी जा सकती है। सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद कोर्ट रूम में तालियां बजी। ये शायद पहली बार हुआ है जब सुप्रीम कोर्ट के कोर्ट रुम में किसी फैसले पर इस तरह से तालियां बजाई गई हो।

सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद निर्भाया की मां ने कहा वो कोर्ट के फैसले से संतुष्ट हैं। उन्होंने कहा भगवान के घर देर हैं लेकिन अंधेर नहीं है। उन्होंने कहा हमारी चाहत है कि अब जल्दी उन चारों को फांसी मिल जाए। निर्भया के पिता ने भी कोर्ट के फैसले पर खुशी जाहिर की है। दिल्ली पुलिस ने भी सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले का स्वागत किया है। दिल्ली पुलिस की तरफ से कहा गया है कि जिस तरह से इस मामले की जांच की गई, तमाम सबूत जुटाए गए उसपर कोर्ट ने संतुष्टि जताई।

Loading...