कलकत्ता हाईकोर्ट के जज को सुप्रीम कोर्ट ने सुनाई 6 महीने जेल की सजा

नई दिल्ली:  सुप्रीम कोर्ट ने कलकत्ता हाईकोर्ट के जज सीएस कर्नन को 6 महीने जेल की सजा सुनाई है। कर्नन को कोर्ट की अवमानना का दोषी माना गया है। कर्नन ऐसे पहले जज हैं जिन्हें सेवा में रहते हुए सजा सुनाई गई है और जिन्हें जेल जना पड़ रहा है। कर्रनन को अदालत, न्यायिक प्रक्रिया और पूरी न्याय व्यवस्था की अवमानना का दोषी माना है।

सुप्रीम कोर्ट के सात जजों की बेंच ने कर्नन के खिलाफ ये फैसला सुनाया है। इस सात जजों की बेंच की अध्यक्षता चीफ जस्टिस जेएस खेहर कर रहे थे। सुप्रीम कोर्ट ने कर्नन पर फैसला सुनाते हुए कहा कि आदेश का तुरंत पालन हो। सुप्रीम कोर्ट ने भविष्य में जस्टिस कर्नन के बयानों को मीडिया में प्रकाशित किये जाने पर भी रोक लगा दी है। सुप्रीम कोर्ट ने पश्चिम बंगाल के डीजीपी को निर्देश दिया है कि वह कर्नन को कस्टडी में लेने के लिए कमिटी गठित करें।

सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से पहले सोमवार को जस्टिस कर्नन ने भारत के चीफ जस्टिस और सुप्रीम कोर्ट के 7 जजों को 5 साल के सश्रम कारावास की सजा सुनाई थी। सुप्रीम कोर्ट की इस बेंच ने स्वत: संज्ञान लेते हुए अवमानना की कार्यवाही शुरु की थी। और उनके न्यायिक और प्रशासनिक कामकाज पर रोक लगा दी थी।

Loading...