SYL पर हरियाणा के पक्ष में सुप्रीम कोर्ट का फैसला, पंजाब में सियासी भूचाल

नई दिल्ली: सतलुज यमुना लिंक नहर यानि SYL पर सुप्रीम कोर्ट ने हरियाणा के पक्ष में फैसला सुनाया है। जिसके बदा पंजाब में सियासी भूचाल आ गया है। कांग्रेस नेता कैप्टन अमरिंदर सिंह ने लोकसभा से इस्तीफा दिया है। पंजाब में कांग्रेस के तमाम विधायकों ने भी इस्तीफा दे दिया। वहीं पंजाब के सीएम प्रकाश सिंह बादल ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को मानने से इनकार कर दिया। दूसरी तरफ सुप्रीम कर्ट के फैसले के बाद हरियाणा खुश है।

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद पंजाब के सीएम प्रकाश सिंह बादल ने कैबिनेट की बैठक बुलाई है। दूसरी तरफ बादल ने कैप्टन अमरिंदर सिंह के इस्तीफे को ड्रामा करार दिया है। कोर्ट ने पंजाब के 2004 के एक्ट को रद्द करते हुए इसे असंवैधानिक करार दिया है। दरअसल पंजाब सरकार ने इस एक्ट के जरिये सभी राज्यों के साथ हुए जल समझौतों को खत्म कर दिया था। कोर्ट ने कहा कि सरकार इस तरह एकतरफा तरीके से समझौता खत्म नहीं कर सकती।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा पंजाब का 2004 का फैसला सुप्रीम कोर्ट की तरफ से 2003 में दिये गए फैसले के उलट है। कोर्ट ने सतलुज यमुना लिंक नहर का काम जारी रखने के निर्देश दिये हैं। इस नहर पर अब केंद्र सरकार का नियंत्रण होगा।

पंजाब के सीएम प्रकास सिंह बादल पहले ही कह चुके हैं कि खून बहा दुंगा लेकिन पानी नहीं दूंगा। इसपर हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि पंजाब सरकार को समझदारी से काम लेनी चाहिए। लोकतांत्रिक तरीके से वो उन्हें अपनी बात रखनी चाहिए। जिस तरह कांग्रेस और पंजाब की बादल सरकार SYL मुद्दे पर अपनी अपनी बात और दावेदारी कर रहे हैं उसके बाद ये भी पक्का हो गया है इतनी आसानी से ये मामला शांत नहीं होगा। अब इस मुद्दे पर सियासी रंग भी चढ़ने लगा है।

Loading...

Leave a Reply