सुप्रीम कोर्ट ने 24 हफ्ते के गर्भपात की इजाजत दी

दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने गर्भपात पर एक ऐतिहासिक फैसला सुनाया है। सुप्रीम कोर्ट ने एक महिला को 24 हफ्ते के गर्भपात की इजाजत दे दी है। ये फैसला बड़ा इसलिए है क्योंकि कानूनन 20 हफ्ते से ज्यादा के गर्भपात की इजाजत नहीं है। महिला ने मेडिकल ग्राउंड पर कोर्ट से गर्भपात की इजाजत मांगी थी। महिला की तरफ से दलील दी गई थी कि उसके गर्भ में पल रहे बच्चे का शारीरिक विकास सही तरीके से नहीं हुआ है। अगर वो इस बच्चे को जन्म देती है तो उसे कई बीमारियां हो सकती हैं। साथ ही महिला ने अपनी जान को भी खतरा बताया था।

जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने इसपर एक मेडिकल बोर्ड का गठन किया था। मुंबई के KEM अस्पताल में ही मेडिकल बोर्ड का गठन किया गया। जिसके बाद महिला का मेडिकल टेस्ट किया गया। मेडिकल बोर्ड ने भी अपनी रिपोर्ट में कहा था कि महिला के गर्भ में पल रहे बच्चे में कई बीमारियां हैं। और डिलीवरी के बाद उस बच्चे के जिंदा रहने की संभावना काफी कम है। बोर्ड ने ये भी कहा था कि बच्चे को जन्म देने में महिला की जान को भी खतरा है। बोर्ड में शारीरिक और मानसिक दोनों तरीके से महिला के लिए खतरा बताया था।

इस रिपोर्ट को देखने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने महिला को गर्भपात कराने की इजाजत दे दी। दरअसल महिला के साथ मुंबई में बलात्कार हुआ था। जिसके बाद वो गर्भवती हो गई थी। लेकिन जब 24 हफ्ते का गर्भ हुआ तो उसे एहसास हुआ कि बच्चे में कई विसंगतियां हैं। और उसे जन्म देने में उसकी जान को भी खतरा है।

Loading...