Supertech को SC का जवाब- ‘पहले जमा कराओ 5 करोड़ फिर होगी सुनवाई’

सुप्रीम कोर्ट से Supertech बिल्डर को फटकार भी लगी है और सख्त निर्देश दिया गया। दरअसल Supertech इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती देने सुप्रीम कोर्ट पहुंचा था। हाईकोर्ट ने नोएडा सेक्टर 93 में Supertech के एमराल्ड कोर्ट प्रोजेक्ट में अवैध रुप से बनाए गए दो टावर को गिराने के निर्देश दिये हैं। इसके खिलाफ Supertech बिल्डर ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है। Supertech की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि पहले रजिस्ट्री के 5 करोड़ जमा करवाए जाएं। अदालत ने कहा कि उसकी अंतरात्मा इस बात की इजाजत नहीं देती कि पैसे जमा कराए बगैर Supertech की अपील पर सुनवाई करे। सुप्रीम कोर्ट पहले ही इस मामले में यथास्थिति बनाए रखने का निर्देश दे चुका है।

कंपनी का दावा है कि उसने 150 लोगों के रकम लौटा दिये हैं। जबकि फ्लैट खरीदारों का कहना है कि उन्हें पैसा नहीं फ्लैट चाहिए। इसे लेकर 40 खरीदारों ने अपनी अर्जी भी लगाई है सुप्रीम कोर्ट ने। हलांकी अभी उसपर सुनवाई शुरु नहीं हुई है। बिल्डर ने कोर्ट से कहा कि कंपनी की तरफ से ग्रीन एरिया नॉर्म का उल्लंघन नहीं किया गया। 2009 में बिल्डिंग बनाने की इजाजत मिली थी। जैसे जैसे इजाजत मिलती गई फ्लोर बढ़ाते रहे। सुप्रीम कोर्ट ने इसपर नोएडा अथॉरिटी को भी फटकार लगाई है। कोर्ट ने अथॉरिटी से कहा कि आप इस तरह की दिक्कतें क्यों पैदा होने देते हैं। एक अथॉरिटी होने के नाते आप लोगों के साथ विश्वासघात करते हैं। देश के साथ धोखा करते हैं।

Loading...

Leave a Reply