क्राइम शो से इस एंकर को मिली शोहरत लेकिन खुद किया ऐसा क्राइम की हो गई उम्रकैद

नई दिल्ली:  टीवी चैनल पर वो शायद पहला क्राइम शो था नाम था इंडियाज मोस्ट वांटेड। प्राइम टाइम में प्रसारित होनेवाले इस क्राइम शो को लोगों ने जितना पसंद किया उतना ही पसंद इस प्रोग्राम के एंकर को किया। प्रोग्राम की टीआरपी कुछ इस तरह से बढ़ी कि इसके एंकर सुहैब इलियासी रातों रात एक चमकता सितारा बन गए।

इस शो की कामयाबी का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि इसके जरिये कई खुंखार मुजरिम सलाखों के पीछे पहुंच गए थे। लेकिन सुहैब इलियासी ने अपनी ही पत्नी की हत्या कर दी। शुरु में जब ये बात सामने आई तो किसी को यकीन नहीं हुआ। क्योंकि सुहैब की पहचान अपराध के खिलाफ लड़नेवाले सिपाही की बन चुकी थी। पत्नी की हत्या का दाग जब सुहैब पर लगा तो उसी के साथ उसकी ख्याति की चमक भी धूमिल होने लगी। और एक वक्त हर तरफ चर्चा में रहनेवाला क्राइम शो का एंकर गुमनामी में खो गया।

अब एकबार फिर से सुहैब इलियासी का नाम लिया जा रहा है। दिल्ली की एक अदालत ने सुहैब को पत्नी की हत्या का दोषी ठहराया है। उसे उम्रकैद की सजा सुनाई गई है, साथ ही उस पर 10 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है।

सुहैब ने अपनी पत्नी की हत्या के बाद उसके नाम से एक सुसाइड नोट भी खुद ही लिखी थी। जिसे पहले नजर में पढ़कर कोई भी धोखा खा सकता था। लेकिन जैसे जैसे इस मर्डर केस की जांच आगे बढ़ी सच्चाई सामने आती गई। और कानून के हाथ सुहैब का गिरेबान आ गया। सरकारी वकील ने इस केस में सुहैब के लिए फांसी की सजा की मांग की थी लेकिन अदालत ने उसे उम्रकैद की सजा दी।

सुहैब की पत्नी के परिवार के वकील ने कहा कि सुहैब ने जघन्य अपराध किया है। क्राइम सीरियल बनाते बनाते ही इसने पत्नी की हत्या की साजिश रची। पूरी स्क्रिप्ट तैयार की और उसकी हत्या को आत्महत्या दिखाने की कोशिश की। निचली अदालत के फैसले पर सुहैब का कहना है कि वो इस फैसले के खिलाफ ऊपरी अदालत में अपील करेगा।

11 जनवरी 2000 को सुहैब की पत्नी की रहस्यमय तरीके से मौत हुई थी। जिसके लिए अब 17 साल बाद उसे दोषी ठहराया गया है। इस अपराध ने सुहैब से उसका स्टारडम छीन लिया। जिस जुर्म की कहानी वो दुनिया को बताता था खुद उसका हाथ ही अपनी पत्नी अंजू इलियासी के खून से सना था।

Loading...