Subramanian-Swamy-geeta-updesh

अब आरोप नहीं, गीता का उपदेश दे रहे सुब्रमण्यम स्वामी

अब आरोप नहीं, गीता का उपदेश दे रहे सुब्रमण्यम स्वामी

अपनी विवादास्पद टिप्पणी की वजह से सुर्खियों में रहने वाले और कई बार पार्टी के लिए मुश्किल खड़ी कर चुके सुब्रमण्यम स्वामी अब गीता का उपदेश समझा रहे हैं। एक दिन पहले ही पीएम Modi ने बगैर स्वामी का नाम लिये ये चेतावनी दी थी कि आरबीआई गर्वरनर पर इस तरह के हमले सही नहीं हैं। स्वामी समझदार हैं इसलिए मोदी का ईशारा समझ गए। लेकिन चुकी बोलना स्वामी की आदत है इसलिए अब नेताओं पर नहीं भगवद्गीता पर बोल रहे हैं।

मंगलवार को सुबह ट्विटर पर सुब्रमण्यम स्वामी श्रीकृष्ण के उपदेश को याद करते हुए सुख दुखे… का जिक्र किया है। इसके साथ ही स्वामी ने दुनिया में संतुलन के सिद्धांत की भी चर्चा की।

स्वामी ने लिखा ‘ यह दुनिया एक सामान्य इक्वलिब्रीअम है। पारामीटर में एक छोटा बदलाव भी सभी वेरीअबल्स को प्रभावित करता है। इसलिए श्रीकृष्ण का उपदेश है सुख दुखे…

दरअसल सुब्रमण्यम स्वामी की तरफ लगातार पार्टी लाइन से बाहर जाकर बयान दिये जा रहे थे। जिसपर प्रधानमंत्री ने चुप्पी तोड़ते हुए कहा था कि ‘RBI गवर्नर के लिए ऐसी बातें करना बिल्कुल गलत है। कोई भी आदमी खुद को व्यवस्था से ऊपर न समझे। हमारी पार्टी हो या दूसरी कोई पार्टी ऐसा कहना सबसे लिए गलत है। व्यवस्था से कोई भी बड़ा नहीं हो सकता। केवल पब्लिसिटी के लिए ऐसा कहना गलत है। कोई भी पार्टी से बड़ा नहीं हो सकता।‘

इसके बाद अब अरुण जेटली भी प्रधानमंत्री से मिलने वाले हैं। दरअसल स्वामी कई बार बगैर नाम लिये वित्त मंत्री अरुण जेटली पर निशाना साध चुके हैं। कोट और टई में वेटर लगने वाला बयान भी जेटली पर निशाना साधने के मकसद से ही दिया गया था। हलांकी इसके बाद स्वामी ने कहा था कि वो जेटली पर कुछ नहीं बोल रहे थे।

वहीं सूत्रों के मुताबिक बीजेपी ने भी स्वामी को चुप रहने या कम बोलने की नसीहत दी है। क्योंकि स्वामी अपने बयान से कई बार पार्टी को भी मुश्किल में डाल चुके हैं। पिछले दिनों उनके अनुशासन पर सवाल उठाए गए थे। जिसके बाद उन्होंने कहा था कि अगर वो अनुशासित नहीं रहें तो खून खराबा हो जाएगा।

– Subramanian Swamy, Raghuram Rajan, Narender Modi

Loading...

Leave a Reply