कालाधन पर एक और चोट हाईवे और वीआईपी इलाकों में प्रॉपर्टी की जांच शुरु

नई दिल्ली: तिजोरी में बंद कालाधन को बाहर निकालने के बाद सरकार कालाधन जमा करनेवालों पर एक और करारा प्रहार करने जा रही है। इसबार बड़े शहरों के आसपास के हाईवे के पास की जमीन, वीआईपी इलाकों में खरीदी गई प्रॉपर्टी, बेनामी संपत्ति की जांच शुरु की गई है।

इस काम में आयकर विभाग की 200 लोगों की टीम लग चुकी हैं। उन्होंने जांच शुरु कर दी है। इनके रडार पर खासकर देश के सभी बड़े शहरों के हाईवे के आसपास की जमीन, प्रमुख शहरों में मौजूद महंगी प्रॉपर्टी है। आयकर विभाग प्रमुख औद्योगिक प्लॉटों, कमर्शियल प्लैटों और दुकानों की भी जांच कर रहा है।




जांच एजेंसियां ये पता लगा रही हैं कि किसने नाम पर महंगे दुकान और प्लॉट हैं। किसके नाम पर औद्योगिक प्लॉट और बड़े बंगले हैं। अभी तक ये जानकारी निकलकर सामने आई है कि दिल्ली की लुटियन जोन में भी कुछ बंगले ऐसे हैं जिसका असली मालिक कोई और है।

सरकार के तमाम विभाग से सरकारी जमीन का ब्यौरा मांगा गया है। जिससे ये पता चल सकेगा कि कहां कहां सरकारी जमीन पर कब्जा किया गया है। इस तरह की तमाम प्रॉपर्टी का वेरीफिकेशन किया जा रहा है। इस मामले में दोषी पाए जाने के बाद बेनामी ट्रांजेक्शन एक्ट 2016 के तहत कार्रवाई की जाएगी। एक नवंबर से इस एक्ट को लागू किया जा चुका है। दोष साबित होने पर संपत्ति जब्त करने के साथ साथ 7 साल की कैद का भी प्रावधान है।

Loading...