मंत्री हो तो राठौड़ साहब जैसा, खिलाड़ियों के लिए खुद चाय-नाश्ता लेकर पहुंच गए

नई दिल्ली:  यदि किसी व्यक्ति का जुड़ाव किसी खास चीज से रहा हो और बाद में उसे उस विभाग का मुखिया बना दिया जाए तो ये उम्मीद की जाती है कि अपने विभाग में शामिल लोगों की जरुरतों को उससे बेहतर और कोई नहीं समझ सकता। ऐसा ही कुछ हुआ एशियाड गेम्स के दौरान। जहां खेलगांव में खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ जब नाश्ते की मेज पर बैठे भारतीय खिलाड़ियों और कोच के बीच पहुंचे तो वहां मौजूद सभी खिलाड़ी हैरान रह गए।

खिलाड़ियों को हैरानी इस बात की थी कि खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह ने जो काम किया था जिसकी उम्मीद किसी ने नहीं की थी। और ऐसी तस्वीर कम ही देखने को भी मिलती है। यहां यह भी कहना जरुरी है कि किसी भारतीय मंत्री की ऐसी तस्वीर पहली बार दिखी है।

दरअसल इंडोनेशिया में चल रहे एशियन गेम्स में खेलगांव में खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ मंगलवार को खुद पहुंचे। उनके पहुंचने की जानकारी काफी कम लोगों को थी। खेलगांव में खिलाड़ी डायनिंग हॉल में नाश्ते का इंतजार कर रहे थे। इसी बीच खेल मंत्री रिसेप्शन पर गए और नाश्ते की ट्रे उठाकर भारतीय खिलाड़ियों की तरफ बढ़ गए। उन्हें इस हालत में देखकर वहां मौजूद खिलाड़ी भी हैरान रह गए।

खिलाड़ियों को हैरानी इस बात की हो रही थी कि किसी खेल मंत्री ने उनके लिए पहली बार ऐसा किया था। जिसमें मंत्री ने खुद खिलाड़ियों के लिए नाश्ता उनके डाइनिंग टेबल तक लाया था। खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ के अपने करीब देखकर सभी उनके सम्मान में खड़े हो गए।

यहां ये जानलेना जरुरी है कि राज्यवर्धन सिंह राठौड़ खुद भी ओलंपिक पदक विजेता हैं। 2004 के एथेंस ओलंपिक में निशानेबाजी के डबल ट्रैप स्पर्धा में उन्होंने रजत पदक जीता था। ओलंपिक में निशानेबाजी में पदक जीतने वाले वे पहले भारतीय शूटर थे। चुकी मंत्री बनने से पहले राज्यवर्धन सिंह एक खिलाड़ी रह चुके हैं इसलिए उन्हें ये भी पता है कि केवल ताली बजाने से ही खिलाड़ियों का उत्साहवर्धन नहीं होता है बल्कि कुछ और भी करना होता है।

Loading...