EVM की गड़बड़ी आई सामने, बटन समाजवादी पार्टी का दबाया लेकिन वोट BJP को गया

नई दिल्ली: मध्यप्रदेश में उपचुनाव की तैयारी का जायजा लेने के दौरान EVM की गड़बड़ी सामने आई। दरअसल मध्यप्रदेश के भिंड में जिले में अगले हफ्ते उपचुनाव होना है। उसी की तैयारी का जायजा लेने मुख्य निर्वाचन अधिकारी सलीना सिंह पहुंची थीं। उन्होंने जब EVM की जांच की तो पता चला बटन किसी दूसरी पार्टी का दबाया गया लेकिन वोट बीजेपी के खाते में गया। जहां EVM की जांच हो रही थी वहां VVPAT भी लगाया गया था। जिससे इस बात की जानकारी मिली।

VVPAT यानि वोटर वेरीफाइड पेपर ऑडिट ट्रायल का यहां डेमो किया जाना था। उसी क्रम में EVM पर समाजवादी पार्टी का बटन दबाया गया तो VVPAT से पर्ची बीजेपी के नाम की निकली। फिर दूसरी पर्टी का बटन दबाया गया तो भी पर्ची बीजेपी की ही निकली। इसके बाद चुनाव आयोग ने जिला मतदान अधिकारी से पूरे मामले की रिपोर्ट तलब की है।

ये भी पढें :

– कालेधन वालों पर पीएम मोदी का बहुत बड़ा हमला, इन कंपनियों की उड़ गई नींद
– अंडा खरीदने से पहले उसकी जांच कर लें, कहीं प्लास्टिक का तो नहीं है

हलांकी वहां मौजूद मीडियाकर्मियों के मुताबिक जब EVM की ये गड़बड़ी सामने आई तो मुख्य निर्वाचन अधिकारी सलीना सिंह ने कहा EVM को पूरी तरह से प्रोग्राम नहीं किया गया है इसलिए ऐसा हुआ। वहां मौजूद मीडियाकर्मी ये भी बताते हैं कि सलीना सिंह ने उनसे कहा कि इस बारे में कहीं छापना नहीं, नहीं तो थाने में बैठा दूंगी।

randeep-surjewala
इस गड़बड़ी के सामने आने के बाद कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा मुख्य निर्वाचन अधिकारी को आवाज दबाने और धमकाने के बजाय EVM धांधली की जांच करानी चाहिए।

दरअसल यूपी विधानसभा चुनाव के जब नतीजे आए तो उसके बाद सबसे पहले बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने EVM पर सवाल उठाया था। उन्होंने कहा था कि EVM में बटन किसी भी पार्टी का दबाया जाता था लेकिन वोट बीजेपी को ही जाता था। मायावती ने इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में भी याचिका दायर की है। मायावती के बाद दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने भी EVM पर सवाल उठाए थे। केजरीवाल ने कहा था कि पंजाब में अकाली दल को इसलिए इतने वोट मिल गए क्योंकि वहां EVM के साथ छेड़छाड़ की गई थी।

लेकिन अब मध्य प्रदेश में मुख्य चुनाव अधिकारी की मौजूदगी में जिस तरह की गड़बड़ी सामने आई है उसके बाद विरोधियों की तरफ से EVM पर उठाए जा रहे सवाल और आरोप को भी बल मिला है। आम आदमी पार्टी और कांग्रेस दिल्ली में होनेवाले एमसीडी चुनाव EVM की जगह बैलट पेपर से कराने की मांग की जा चुकी है।

Loading...

Leave a Reply