SUPREME-COURT-OF-INDIA

संप्रभू राज्य नहीं है जम्मू कश्मीर, भारतीय संविधान के अधीन है- सुप्रीम कोर्ट

संप्रभू राज्य नहीं है जम्मू कश्मीर, भारतीय संविधान के अधीन है- सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर की संप्रभूता पर सुप्रीम कोर्ट ने अहम टिप्पणी करते हुए कहा का भारतीय संविधान के दायरे से बाहर नहीं है जम्मू-कश्मीर राज्य। सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू एंड कश्मीर हाईकोर्ट की टिप्पणी को दरकिनार करते हुए ये टिप्पणी की। जम्मू एंड कश्मीर हाईकोर्ट ने कहा था कि संसद के पास कानून बनाने की पात्रता नहीं है खासकर तब जब ये विषय राज्य (जम्मू एंड कश्मीर) से जुड़ा हो। हाईकोर्ट ने कहा था कि जम्मू-कश्मीर संप्रभू राज्य है। जिसे सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया।

सुप्रीम कोर्ट ने अपनी टिप्पणी में कहा ‘यह साफ है कि जम्मू-कश्मीर राज्य के पास भारत के संविधान और उसके अपने संविधान के दायरे के बाहर कोई संप्रभूता नहीं मिली हुई है। जम्मू-कश्मीर के नागरिकों पर पहले देश का संविधान लागू होता है।इसके अलावा जम्मू-कश्मीर का संविधान भी लागू होता है।‘

सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट की उस टिप्पणी को खारिज किया है जिसमें कहा गया था ‘जम्मू-कश्मीर का संविधान देश के संविधान के बराबर है।‘ सुप्रीम कोर्ट ने माना कि ‘जम्मू-कश्मीर हाई कोर्ट के एक फैसले में राज्य के निरंकुश संप्रभूता की बात की गई है। जो परेशान करने वाली बात है।‘ सुप्रीम कोर्ट ने ये भी साफ कर दिया कि जम्मू कश्मीर के नागरिक सबसे पहले भारतीय नागरिक हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा ‘इस तरह से इसलिए विचार रखा जा रहा है क्योंकि हाईकोर्ट ने जिस संप्रभूता का जिक्र किया था उसका कोई अस्तित्व ही नहीं है। साथ ही सुप्रीम कोर्ट की तरफ से ये भी साफ किया गया कि भारतीय संविधान और जम्मू-कश्मीर के संविधान में कोई टकराव नहीं है।‘

Loading...

Leave a Reply