kashmir-unrest

कश्मीर में सुधर रहे हैं हालात, 500-1000 के नोट बंद होने का दिख रहा असर

कश्मीर में सुधर रहे हैं हालात, 500-1000 के नोट बंद होने का दिख रहा असर

नई दिल्ली: नोटबंदी के बाद कश्मीर के हालात पर इसका असर दिखने लगा है। 500 और 1000 रुपये के नोट बंद होने के बाद से यहां पत्थरबाजी की घटनाओं में कमी आई है। गृह मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक नोटबंदी के बाद अलगाववादियों के उकसावे में होनेवाली पत्थरबाजी की घटनाओं में कमी आई है।

दरअसल कई बार ऐसी रिपोर्ट सामने आ चुकी है कि कश्मीर में युवाओं को पत्थर फेंकने के बदले पैसे दिये जाते थे। रिपोर्ट ये भी थी कि पत्थर फेंकने के बदले रोजाना 600 से 700 रुपये दिये जाते थे। ये एक बड़ी उपलब्धी मानी जा रही है। क्योंकि आतंकी बुरहान वनी के एनकाउंटर के बाद से ही कश्मीर में हालात हिंसक बने हुए थे।




वहीं बीजेपी की जम्मू इकाई ने नोटबंदी को वित्तीय सर्जिकल स्ट्राइक कहा है। जम्मू कश्मीर बीजेपी के प्रवक्ता सुनील सेठी ने कहा कि सरकार के इस फैसले ने आतंकवाद और अलगाववाद के ताबूत में कील ठोंक दी है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की तरफ से बड़े नोटों को बंद करने का फैसला सही वक्त पर लिया गया।

उन्होंने कहा कि घाटी में सीमापार से आनेवाले जाली नोट और हवाले के पैसे का इस्तेमाल अशांति फैलाने में किये जा रहे थे।

Loading...

Leave a Reply