एनकाउंटर पर सवाल पूछने वालों को रमाशंकर की शहादत नहीं दिखती – शिवराज

भोपाल: सेंट्रल जेल भोपाल में तैनात हेड कांस्टेबल की हत्या SIMI के उन्हीं आतंकियों ने कर दी थी जिनके एनकाउंटर पर विपक्ष मध्य प्रदेश सरकार से सवाल पूछ रहा है। मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान हेड कांस्टेबल रमाशंकर के शव को कांधा देने पहुंचे थे। सीएम ने कहा जो लोग SIMI के आतंकियों के एनकाउंटर पर सवाल पूछ रहे हैं उन्हें रमाशंकर की शहादत नहीं दिखती। उन्होंने एक शब्द रमाशंकर के परिवार के बारे में नहीं बोला।

सीएम शिवराज सिंह चौहान रमाशंकर को श्रद्धांजलि देने उनके घर पहुंचे थे। सीएम ने उन्हें कांधा भी दिया। रमाशंकर के परिजनों को 10 लाख रुपये की मदद, उनकी बेटी की शादी के लिए 5 लाख रुपये की मदद देने का एलान किया। सीएम ने कहा कि ये पांच लाख की सीमा नहीं है। अगर जरुरत होगी तो और भी मदद की जाएगी। मोहल्ले का नाम रमाशंकर के नाम पर रखने का एलान किया।

भोपाल सेंट्रल जेल से भागे SIMI के 8 आतंकियों के एनकाउंटर पर विपक्ष ने सवाल उठाए थे। कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने सवाल पूछा था कि आतंकी जेल से भागे थे या भगाए गए। क्योंकि जेल से भागने के कुछ घंटों के बाद ही उनका एनकाउंटर कैसे कर दिया गया। ओबैसी ने एनकाउंटर पर सवाल उठाते हुए पूछा था कि आतंकियों के पास कपड़े, जूते और घड़ी कहां से आ गए। केजरीवाल की आम आदमी पार्टी ने भी एनकाउंटर पर सवाल उठाया था।

हर तरफ से उठ रहे सवालों पर शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि आतंकियों के मारे जाने पर जिस तरह से सवाल पूछे जा रहे हैं अच्छा होता अगर दो बूंद आंसू रमाशंकर पर बहा लेते। सीएम ने पूछा ये कैसी सियासत है।

SIMI के आतंकियों ने जेल से भागते वक्त हेड कांस्टेबल रमाशंकर की गला रेतकर हत्या कर दी थी। उनकी बेटी की अगले महीने 9 दिसंबर को शादी है। लेकिन उससे पहले पिता के इस तरह से चले जाने से पूरे परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। रमाशंकर का बेटा फौज में है। हाल ही में रमाशंकर की बाईपास सर्जरी हुई थी। उनके परिजनों का कहना है कि उनके पिता हार्ट पेशेंट थे। और उन्हें काफी दिनों से एक ही जगह पर रखा गया था। जबकि रमाशंकर कई बार वहां रहने से मना कर चुके थे।
Attachments area

Loading...

Leave a Reply