सामना में शाहरुख पर वार, ‘अपमान होता है तो अमेरिका जाते क्यों हैं?’

अमेरिका में लॉस एंजिलिस एयरपोर्ट पर शाहरुख को इमिग्रेशन विभाग की तरफ रोके जाने की घटना पर शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में लेख छापा है। जिसमें कहा गया है कि ‘अमेरिका में एक और अपमान होने के बाद शाहरुख को स्वाभिमानी रुख दिखाते हुए भारत लौट आना चाहिए था। उनका यह कदम अमेरिका के मुंह पर तमाचा होता।‘ शाहरुख को तीसरी बार अमेरिका के एयरपोर्ट पर रोके जाने पर शिवसेना ने कहा कि ‘ऐसा बार-बार होने के बावजूद यह सहिष्णु अभिनेता बार बार अमेरिका जाते हैं।‘

शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में लिखा ‘अमेरिका के अधिकतर बड़े एयरपोर्ट्स पर शाहरुख के साथ ऐसा होना आम बात है। फिर भी यह सहिष्णु अभिनेता बार-बार अमेरिका जाते हैं…केवल अपमान करवाने के लिए। उन्हें स्वाभिमानी रुख दिखाते हुए लौट आना चाहिए था और अमेरिका को बताना चाहिए था कि यदि तुम इस तरह से मेरा अपमान करने वाले हो मैं तुम्हारे देश में कदम नहीं रखूंगा। उन्होंने ऐसा किया होता तो ये अमेरिका के मुंह पर तमाचा होता। अमेरिका हर मुस्लिम को एक आतंकवादी की तरह देखता है।‘

शुक्रवार को शाहरुख को अमेरिका के लॉस एंजिलिस एयरपोर्ट पर पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया था। जिसके बाद उन्होंने ट्वीट कर अपनी निराशा जाहिर की थी। शाहरुख ने अपने ट्वीट में लिखा था ‘दुनिया के हालातों के मद्देनजर मैं सुरक्षा को पूरी तरह समझता हूं और उसका सम्मान करता हूं। लेकिन अमेरिकी इमिग्रेशन द्वारा बार-बार रोका जाना बहुत परेशान करने वाला है।‘ सामना में ये भी लिखा गया है कि ‘बॉलीवुड के खानों को कश्मीर में गुमराह होकर उपद्रव मचा रहे युवाओं को ट्विटर के जरिये सही दिशा दिखानी चाहिए।‘

शाहरुख के साथ हुई इस घटना के बाद समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान ने कहा है कि ‘मुसलमान बहुत परेशान हैं। उन्हें समझ नहीं आ रहा है कि वो कहां जाएं।‘

Loading...