sheila-dixit-former-cm-delhi

शीला दीक्षित बन सकती हैं पंजाब कांग्रेस की प्रभारी !

शीला दीक्षित बन सकती हैं पंजाब कांग्रेस की प्रभारी !

पंजाब कांग्रेस के प्रभारी के पद से कमलनाथ के इस्तीफा देने के बाद अब नए प्रभारी की तलाश सरगर्मी से की जा रही है। कांग्रेस उस नेता की तलाश कर रही है जिसके भरोसे पंजाब में अपनी खोई हुई सत्ता को दोबारा हासिल कर सके। इसी उम्मीद से कांग्रेस ने कमलनाथ को पंजाब का प्रभारी बनाया था। लेकिन महज चार दिनों में ही कमलनाथ को कांग्रेस प्रभारी के पद से इस्तीफा देना पड़ा। वजह 1984 के सिख विरोधी दंगा मे लगे आरोप थे।

दरअसल कमनाथ 1984 के दंगे में आरोपी रह चुके हैं। और सिख दंगे का जिक्र होते ही पंजाब के लोगों की आखें आज भी नम हो जाती है। ऐसे में कमलनाथ को पंजाब का प्रभारी बनाना कांग्रेस को भारी पड़ गया। हर तरफ से कमलनाथ का विरोध शुरु हो गया। पंजाब में एक मजबूत दावेदार के तौर पर उभर रही आम आदमी पार्टी ने भी कमलनाथ के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। जिसके बढ़ते विरोध के बीच कंग्रेस को ये डर सताने लगा की कहीं कमलनाथ को प्रभारी बनाना पार्टी के लिए उलटा न पड़ जाए। लिहाजा कमलनाथ की वापसी में ही पार्टी ने अपनी भलाई समझी।

कमलनाथ के इस्तीफे के बाद तलाश शुरु हुई नए प्रभारी की। जिसमें अब दिल्ली की सीएम रह चुकी Sheila Dikshit का नाम सामने आ रहा है। इसे लेकर कांग्रेस अध्यक्ष Sonia Gandhi के साथ उनकी बैठक भी हो चुकी है। सूत्र बताते हैं कि Sheila Dikshit का पंजाब कांग्रेस का प्रभारी बनना तकरीबन तय माना जा रहा है। इसकी एक वजह ये भी है कि वो लगातार तीन बार दिल्ली की सीएम रहीं। दिल्ली और पंजाब के मतदाताओं मे काफी समानता भी है। शीला दीक्षित के नाम पर कांग्रेस इसलिए भी दांव खेल सकती है क्योंकि जनता भी उनको पहचानती है। उनका दिल्ली का अनुभव पंजाब में काम आ सकता है। अगर शीला दीक्षित को प्रभारी बनाया जाता है तो एक बात दिलचस्प होगी वो ये की केजरीवाल और शीला दीक्षित एकबार फिर अप्रत्यक्ष तौर पर आमने सामने होंगे। दोनों की लड़ाई इसलिए अप्रत्यक्ष होगी क्योंकि ना तो पंजाब में शाली के सीएम उम्मीदवार बनने की संभावना है और ना ही केजरीवाल पंजाब में AAM ADMI PARTY की तरफ से सीएम कैंडिडेट बनने जा रहे हैं।

Loading...

Leave a Reply