शरद पर सख्त नीतीश, जेडीयू से बाहर होंगे शरद यादव?

नई दिल्ली:  बिहार में महागठबंधन का साथ छोड़कर बीजेपी के साथ जाने के बाद से पार्टी अध्यक्ष नीतीश कुमार और पूर्व अध्यक्ष शरद यादव के बीच रिश्तों में खटास बढ़ गई है। दोनों नेताओं के बीच ये तल्खी इस हद तक बढ़ चुकी है कि अब ये कहा जाने लगा है कि नीतीश कुमार शरद यादव पर अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए उन्हें पार्टी से निकाल सकते हैं। शरद यादव पर पार्टी की लाइन के खिलाफ जाने का आरोप भी लग रहा है।

दरअसल गुजरात में हुए राज्य सभा चुनाव के बाद दोनों नेताओं की तल्खी और भी बढ़ गई। राज्यसभा चुनाव में पार्टी की तरफ से बीजेपी उम्मीदवार के समर्थन के लए व्हीप जारी किया गया था। लेकिन गुजरात में जेडीयू के एक मात्र विधायक छोटू भाई वसावा ने अहमद पटेल के पक्ष में वोट कर दिया। इसके बाद वसावा को जेडीयू नेता शरद यादव ने बधाई भी दी थी और उनके इस फैसले की सराहना भी की थी।

जानकारी के मुताबिक शरद यादव को पार्टी राज्यसभा के नेता के पद से भी हटा सकती है और उनकी जगह किसी दूसरे को नेता बनाया जा सकता है। शरद यादव आज से तीन दिनों का बिहार यात्रा भी करने वाले हैं। 10 अगस्त से 12 अगस्त के बीच शरद यादव बिहार के आम लोगों के बीच 7 जिलों में संवाद करेंगे। शरद यादव ने उनके विचारों का समर्थन करनेवालों को 17 अगस्त को दिल्ली में होनेवाली बैठक में भी बुलाया है।

इधर आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव ने कहा है कि शरद यादव के बिहार आगमन पर नीतीश कुमार उनका विरोध करवा सकते हैं। उनपर हमले भी करवा सकते हैं नीतीश। हमले संभावना पर जब शरद यादव से सवाल किया गया तो उनका कहना था कि उन्होंने इसकी परवाह ना तो पहले की थी ना ही अब करते हैं।

Loading...