कश्मीर पर बातचीत के लिए खुले हैं दरवाजे, हुर्रियत में इसांनियत नहीं-राजनाथ

श्रीनगर : कश्मीर में शांति बहाली के लिए श्रीनगर गए सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल के कुछ नेताओं ने हुर्रियत के नेताओं भी बातचीत की कोशिश की थी। लेकिन हुर्रियत नेताओं ने मुलाकात करने से इनकार कर दिया। जिसके बाद गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने हुर्रियत को आड़े हाथों लिया है। राजनाथ सिंह ने कहा कि हुर्रियत के लोगों में इंसानियत नाम की चीज नहीं है। उन्होंने कहा हुर्रियत में जम्हूरियत भी नहीं है और कश्मीरियत तो बिल्कुल भी नहीं है। नहीं तो वो सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल के नेताओं के साथ इस तरह का बर्ताव नहीं करते। राजनाथ सिंह ने कहा प्रतिनिधिमंडल के कुछ नेता अपनी तरफ से हुर्रियत के नेताओं से मिलने गए थे।

राजनाथ सिंह ने कहा कि जो लोग शांति चाहते हैं उनसे बात करने के लिए तैयार हैं। उन्होंने कहा कि हमने बातचीत के लिए दरवाजे ही नहीं रोशनदान भी खोल रखे हैं। राजनाथ सिंह ने कहा 52वें दिन कर्फ्यू हटाई थी लेकिन हालात बिगड़ने के बाद दोबारा लगाना पड़ा।

कश्मीर में सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल गृह मंत्री राजनाथ सिंह की अगुवाई में गया है। जो वहां के राजनीतिक दलों के साथ साथ अलग अलग सिविल सोसाइटी के लोगों से भी बात कर रहा है। घाटी में पैलेट गन पर उठ रहे सवालों पर राजनाथ सिंह ने कहा कि पैलेट गन का विकल्प PAVA सेल्स है। इसके 1000 सेल्स कश्मीर पहुंच चुके हैं। इसके इस्तेमाल से किसी की जान नहीं जाएगी। दरअसल पावा सेल से इंसान के शरीर में खुजली होने लगती है। उसे तेज खांसी आती है, उसके आंखों से पानी निकलने लगता है। जिसके चलते कुछ वक्त के लिए वो कुछ भी करने लायक नहीं रह जाता है।

:Rajnath Singh, PAVA, Srinagar, Jammu & Kashmir

Loading...