बुखारी ने नवाज शरीफ को चिट्ठी लिखकर कश्मीर में दखल की मांग की, क्या ये सही है?

नई दल्ली:  जामा मस्जिद के इमाम ने ऐसा काम किया है जिसे सोशल मीडिया पर लोग देशद्रोह की श्रेणी में रख रहे हैं। सैयद अहमद बुखारी में कश्मीर में हालात सामान्य करने के लिए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को चिट्ठी लिखी है। जिसमें उन्होंने लिखा है कि अपने अधिकारों का इस्तेमाल कर कश्मीर के अलगाववादी नेताओं से बात करें। बुखारी ने बताया उन्होंने केंद्र सरकार को भी एक चिट्ठी लिखी है जिसमें उन्होंने शांति स्थापित करने के लिए जरुरी कदम उठाने की अपील की है।

सैयद अहमद बुखारी का ऐसा करने के पीछे मकसद क्या है ये साफ कर पाना बेहद मुश्किल है। क्योंकि इस बात की जानकारी उन्हें भी होनी चाहिए कि कश्मीर में पाकिस्तान का कोई दखल नहीं है। और फिर हुर्रियत के नेताओं से बातचीत के लिए पाकिस्ता की नवाज सरकार को चिट्ठी लिखने का क्या औचित्य है।

हुर्रियत के जिन नेताओं से बात करने के लिए बुखारी ने नवाज शरीफ को चिट्ठी लिखी है हुर्रियत के वो नेता पाकिस्तान से फंडिंग के मामले में फंसे हैं। एनआईए उनकी जांच कर रही है। स्टिंग ऑपरेशन में ये सामने आया था कि किस तरह से हुर्रियत के नेताओं तक पाकिस्तान से कश्मीर में हालात बिगाड़ने के लिए पैसे पहुंचाए जाते हैं।

उसी अलगाववादियों से बात करने के लिए बुखारी नवाज शरीफ को चिट्ठी लिख रहे हैं। बुखारी नवाज शरीफ से कह रहें कि आईये आप कश्मीर में अपने अधिकारों को इस्तेमाल कीजिये और हुर्रियत नेताओं से बात कीजिये। लेकिन क्या इस सवाल का बुखारी के पास कोई जवाब है कि आखिर नवाज शरीफ किस अधिकार या किस हैसियतत से कश्मीर पर हुर्रियत के नेताओं से बात करेंगे।

क्या इस तरह की चिट्ठी लिखने के पीछे बुखारी की ये सोच है जिसमें वो ये मानते हैं कि कश्मीर पाकिस्तान का हिस्सा है। और पाकिस्तान ही कश्मीर में हालात सामान्य कर सकता है। आगर ऐसा है तो बुखारी को ये भी समझ लेना चाहिए कि उन्होंने ऐसा सोचकर और नवाज शरीफ को चिट्ठी लिखकर एक बहुत बड़ी भूल कर दी है। क्योंकि एक बार नहीं कई बार भारत की तरफ से ये साफ किया जा चुका है कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है। और पाकिस्तान को कश्मीर पर अपना हक जताने का कोई अधिकार नहीं है। एक सवाल और भी यहां बनता है बुखारी साहब क्या आपने हुर्रियत के नेताओं के इशारे पर इस तरह की चिट्ठी लिखी है।

बुखारी की इस हरकत पर दिल्ली बीजेपी के प्रवक्ता तेजिंदर बग्गा एक ट्वीट किया। जिसमें उन्होंने लिखा शाही इमाम समय समय पर अपना देशद्रोही चेहरा दिखाता रहता है। चंद नेता वोटबैंक के कारण ऐसे गद्दारों की चरण वंदना करते हैं।

Loading...