satender-jain-and-jain-muni-tarun-sagar

केजरीवाल का संदेश लेकर सतेंद्र जैन पहुंचे जैन मुनि के पास, मांगी माफी

केजरीवाल का संदेश लेकर सतेंद्र जैन पहुंचे जैन मुनि के पास, मांगी माफी

दिल्ली: जैन मुनी तरुण सागर पर गायक और पूर्व आप नेता विशाल ददलानी के विवादित ट्वीट के बाद आम आदमी पार्टी की मुश्किल बढ़ गई है। पार्टी को चिंता ददलानी के बयान से होनेवाले नुकसान की है। उसी नुकसान की भरपाई के लिए पार्टी की कोशिश है कि किसी तरह इस विवाद को खत्म किया जाए और इसपर जैन मुनी तरुण सागर से क्लीन चिट मिल जाए।

इसी कोशिश को कामयाब बनाने के लिए दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन सीएम अरविंद केजरीवाल का संदेश लेकर जैन मुनि तरुण सागर के पास पहुंचे। जैन मुनि से माफी मांगी और उन्हें अरविंद केजरीवाल का संदेश सुनाया। इससे पहले ददलानी के ट्वीट पर विवाद बढ़ने के बाद सीएम अरविंद केजरीवाल ने जैन मुनि से फोन पर बात की थी और ददलानी के बयान पर अफसोस जताया था।

vishal-dadlani-twitter-accountचंडीगढ़ में जैन मुनि से मुलाकात के बाद दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्रि सतेंद्र जैन ने कहा कि दिल्ली विधानसभी में भी स्पीकर से बात कर तरुण सागर का प्रवचन कराया जा सकता है। सतेंद्र जैन ने मुलाकात के बाद कहा ‘वह बड़े मन के हैं, उन्होंने हमारे आने से पहले ही माफ कर दिया था। हमने सीएम अरविंद केजरीवाल का संदेश उन्हें दिया है कि अरविंद ने घटना पर दुख जताया है।‘

जैन मुनि तरुण सागर ने कहा वह ददलानी से नाराज नहीं हैं। जैन समुदाय के बारे में की गई टिप्पणी से ऐसा लगते है कि उन्हें जैन धर्म के बारे में और हमारे विश्वास के बारे में कुछ भी पता नहीं है। माफी मांगने या माफ करने का प्रश्न ही नहीं है, मैं तो उनसे नाराज ही नहीं हूं।

दरअसल हरियाणा विधानसभा के मानसून सत्र के पहले दिन जैन मुनि तरूण सागर का प्रवचन विधानसभा में हुआ था। जिसपर गायक और आप नेता विशाल ददलानी ने ट्वीट कर लिखा था अच्छे दिन नहीं आए, बिना कच्छे के दिन आ गए।

ददलानी के इस ट्वीट के बाद जैन समाज की तरफ से विरोध शुरु हुआ । ददलानी के खिलाफ केस दर्ज किया गया। दिल्ली में सीएम अरविंद केजरीवाल के घर के बाहर प्रदर्शन हुआ। आम आदमी पार्टी की तरफ से सबकुछ सामान्य बनाने की कोशिश के बावजूद विवाद अभी खत्म नहीं हुआ है। क्योंकि ददलानी ने किसी की धार्मिक भावना को चकनाचूर किया है। इस विवाद के बाद ददलानी ने राजनीति से संन्यास लेने की बात भी लिखी। माना जा रहा है ये AAP की तरफ से विवादित बयान से पार्टी को और नुकसान पहुंचने से बचाने के लिए एक कोशिश थी।

Loading...

Leave a Reply