सारा को नहीं मिल रहा था लोन, पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी और हुआ चमत्कार

नई दिल्ली: सारा की ख्वाहिश एमबीए करने की है। लेकिन पैसों की किल्लत उसके इस ख्वाब में सबसे बड़ी रुकावट थी। सारा ने लोन के लिए बैंकों के चक्कर लगाए। लेकिन हर जगह उसकी गरीबी आड़े आ जाती थी। बैंकों ने इसलिए लोन हीं दिया क्योंकि वो काफी गरीब थी। जब हर तरफ से दरवाजे बंद हो गए तो सारा ने पीएम मोदी को मदद के लिए चिट्ठी लिखी।

सारा ने बस ये सोचकर पीएम मोदी को चिट्ठी लिखी थी कि शायद कोई रास्ता निकल सके। लेकिन सारा ने जितने की उम्मीद की थी उससे कहीं ज्यादा उसे मिला। सारा ने पीएम को जो चिट्ठी लिखी थी उसका जवाब 10 दिनों में आ गया। जिसमें सारा को ये भरोसा दिया गया कि पैसों की कमी नहीं होने दी जाएगी। साथ ही ये भी कहा गया कि उसकी एमबीए की पढ़ाई करने की हसरत जरुर पूरी होगी।

ये भी पढें :

– पीएम मोदी पर बड़ा हमले की साजिश बेनकाब, खुरासान ग्रुप कर चुका था रिहर्सल

सारा कर्नाटक की मांड्या की रहनेवाली हैं। बैंक में जब सारा लोन लेने गई तो बैंकों की तरफ से पूछा गया कि लोन के पैसे आप कैसे चुकाएंगी। सारा के पिता चीनी मिल में मजदूर हैं। घर की संपत्ति इतनी नहीं है कि उसे गारंटी के तौर पर बैंक में रखा जा सके।

ये भी पढें :

– यूपी के सांसदों को पीएम मोदी का मंत्र ‘अफसरों के ट्रांसफर से दूर रहें सांसद’

पीएम मोदी की तरफ से मिली मदद के बाद सारा ने कहा कि उसे ये उम्मीद नहीं थी कि सबकुछ इतनी जल्दी हो जाएगा। क्योंकि उन्होंने पीएम को चिट्ठी केवल एक आखिरी उम्मीद मानकर लिखी थी। लेकिन सारा की उस चिट्ठी ने उसके सपनों का साकार होने के दरवाजे खोल दिये।

Loading...

Leave a Reply