सपा के ही बड़े नेता पर गोहत्या का आरोप लगाने पर आबिद रजा पार्टी से निलंबित

लखनऊ: समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और यूपी के सीएम अखिलेश यादव ने अपने ही मंत्री को पार्टी से निलंबित कर दिया है। विधायक आबिद रजा को पार्टी विरोधी गतिविधि की वजह से निलंबित किया गया है। आबिद ने समाजवादी पार्टी के ही किसी बड़े नेता पर गोहत्या में शामिल होने का आरोप लगाया था। बड़े नेता पर गोहत्या का आरोप लगाने के बाद आबिद ने उस बड़े नेता से अपनी जान को खतरा भी बताया था। हलांकी आबिद रजा ने अबतक उस बड़े नेता का नाम नहीं लिया है।

अखिलेश यादव ने ये कार्रवाई जिला कार्यकारिणी बदायूं के प्रस्ताव पर विचार करते हुए विधायक आबिद रजा को पार्टी और विधानसभा मंडल दल से निलंबित किया है। बदायूं जिला कार्यकारिणी की 6 अगस्त को हुई बैठक में रजा को पार्टी विरोधी गतिविधि, संगठन के निर्देशों के विपरीत काम करने का दोषी पाया गया था और कार्यवाही का प्रस्ताव किया गया था।

आबिद रजा ने भले ही अबतक सामाजवादी पार्टी के उस बड़े नेता का नाम नहीं लिया है। लेकिन कयास ये लगाए जा रहे हैं कि उनका इशारा मुलायम सिंह यादव के भतीजे धर्मेंद्र यादव की तरफ है। धर्मेंद्र बदायूं से सांसद हैं। सैफई में शिवपाल यादव ने भी माना था कि पार्टी के कई लोग दो नंबर का धंधा करते हैं। पार्टी की तरफ से इस कार्रवाई के बाद रजा ने कहा कि उनकी हत्या करवाई जा सकती है। रजा ने ये भी कहा कि वो समाजवादी पार्टी के उस बड़े नेता का नाम विधानसभा में ही बताएंगे।

रजा ने पार्टी के नेता पर जो आरोप लगाए हैं वो गंभीर हैँ। इसमें कितनी सच्चाई है इसके बारे में या तो रजा या फिर पार्टी के नेताओं को ही जानकारी होगी। लेकिन उस वक्त जबकि राज्य विधानसभा चुनाव की तरफ बढ़ रहा है उससे पहले सत्ताधारी पार्टी के नेता पर इस तरह के आरोप वो भी पार्टी के भीतर से ही लगे तो इसपर विरोधी सवाल भी उठाएंगे और इसमें सियासी फायदे की तलाश भी करेंगे।

Loading...

Leave a Reply