कांग्रेस ने तुड़वाया अय़ोध्या में विवादित ढांचा, बीजेपी ने नहीं- साक्षी महाराज




नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की तारीख का एलान हो चुका है। तारीख के एलान के साथ ही सियासी सरगर्मी भी तेज हो गई है। हर पार्टी की तरफ से दिये जानेवाले बयानों में एक गर्मी है बेचैनी है। उन बयानों पर विवाद भी हो रहे हैं। पलटवार भी हो रहे हैं और फिर उस पलटवार पर एक और वार किया जा रहा है। यानि यूपी में सियासी बयान किसी चेन रिएक्शन की तरह चल रहे हैं।

बीजेपी नेता साक्षी महाराज ने एक ताजा तरीन बयान दिया है। जिसमें उन्होंने कहा कि राम मंदिर बीजेपी ने नहीं बल्कि कांगेस ने तुड़वाया है। साक्षी महाराज ने कहा कि मंदिर में मूर्ति कांग्रस ने रखवाई, मंदिर का ताला कांग्रेस के शासनकाल के वक्त में खोला गया, बाबरी मस्जिद का विवादित ढांचा कांग्रेस ने गिराया। तो फिर बीजेपी इसके लिए कैसे जिम्मेदार हो गई।

जब साक्षी महाराज से पूछा गया कि जिस वक्त विवादित ढांचा गिराया गया तब यूपी में कल्याण सिंह की सरकार थी। तो इसपर साक्षी महाराज का कहना था कि ढांचा गिराने से पहले ही कल्याण सिंह ने इस्तीफा दे दिया था। तब केंद्र में नरसिम्हा राव की सरकार थी और नरसिम्हा राव के गुरु बाबरी मस्जिद गिरवा रहे थे।

साक्षी महाराज ने आगे कहा कि राम मंदिर बीजेपी का नहीं विश्व हिंदू परिषद का मुद्दा है। साक्षी महाराज के इस बयान पर कांग्रेस ने पलटवार किया है। कांग्रेस ने कहा है कि साक्षी महाराज के खिलाफ कानूनी कार्रवाई हो।

इस बयान से पहले साक्षी महाराज ने एक और विवादित बयान दिया था। जिसमें उन्होंने बढ़ती जनसंख्या पर कहा था कि चार बीवियां और चासील बच्चों की वजह से देश की जनसंख्या बढ़ रही है। साक्षी महाराज ने आगे कहा था कि हम कहते हैं ये 4 बीवियां और 40 बच्चे नहीं चलेंगे। उन्होंने कहा मेरा काम कहना था कह दिया। आगे तुम्हारी मर्जी।

Loading...