सहरसा:बाल मजदूरी के नीचे दबकर दम तोड़ रहा बिहार का भविष्य,प्रशासन बेखबर

गौतम कुमार/सहरसा
सहरसा/बिहार:एक तरफ सरकार द्वारा सर्व शिक्षा अभियान का नारा लगाया जाता है तो एक तरफ शिक्षा से दूर बच्चे मजदूरी करते नजर आते है।बिहार राज्य के सहरसा जिलें मुख्यालय की तस्वीर को देखकर यह या अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि कैसे बिहार का भविष्य बर्बाद हो रहा हैं।और इसपर प्रसाशन द्वारा भी कभी कोई कदम नही उठाया जाता।

सहरसा में बाल मजदूरी होटल से लेकर मछली मार्किट,किसी बाबू की शादी या फिर कोशी तटबंध पे बाँध की मरम्मत हो सभी जगहों को बाल मजदूर को देखा जा सकता है।

सरकार द्वारा बाल मजदूरी को लेकर लाख दावें किये जाते है। लेकिन सहरसा के सरजमीं पर बाल मजदूरी आज भी जिंदा हैं।मुख्यालय के सरकारी दफ्तरों से लेकर होटलों तक का काम बाल मजदूर पर टिका हुआ हैं।कम पैसे में ज्यादा काम लोग बाल मजदूर से करवातें हैं।

इस गंभीर मामले को लेकर सरकार द्वारा तो कई बार आदेश दिया जाता है लेकिन इस मामले को हल करने वाले प्रसाशन बाबू को तो बस माह पूरा कर वेतन लेने से मतलब है।

(Visited 28 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *