राजनाथ के पाक दौरे से दहशत में आतंकी सरगना सोच रहे हैं- वो आ गया तो हमारी खैर नहीं

दिल्ली: गृह मंत्री राजनाथ सिंह 3 अगस्त को पाकिस्तान जा रहे हैं। उससे पहले गृह मंत्रालय में एक उच्चस्तरीय बैठक बुलाई गई। जिसमें एनएसए, आईबी और रॉ के चीफ शामिल हुए। राजनाथ सिंह पाकिस्तान के इस्लामाबाद में सार्क देशों के सम्मेलन में शामिल होंगे। इस सम्मेलन में पठानकोट हमला, सीमा पार चल रही आतंक की फैक्ट्री, सरहद पार से घुसपैठ और हाल में गिरफ्तार पाकिस्तानी आतंकी बहादुर अली का मुद्दा भी भारत की तरफ से उठाया जीएगा। बहादुर अली समेत चार आतंकियों को पाकिस्तान से भारत में बड़ी आतंकी साजिश को अंजाम दने के लिए भेजा गया था। सुरक्षाबलों ने उसके चार साथियों को तो मार गिराया था लेकन बहादुर अली जिंदा पकड़ा गया। जिसके बाद उसने कबूल किया कि वो पाकिस्तान के लाहौर का रहनेवाला है और उसे हाफिज सईद ने भारत भेजा था। बहादुर अली जमात उद दावा प्रमुख हाफिज सईद को चाचा कहकर बुलाता है।

वहीं जमात उद दावा प्रमुख हाफिज सईद भारत के गृह मंत्री राजनाथ सिंह के पाकिस्तान दौरे से घबराया हुआ है। केवल हाफिज सईद ही नहीं हिजबुल मुजाहिदीन प्रमुख और हाल में कश्मीर में मारे गए आतंकी बुरहान वानी को अपनी कैंप में ट्रेनिंग देने वाला सैयद सलाउद्दीन भी राजनाथ सिंह के पाकिस्तान आने का विरोध कर रहा है। रविवार को पाकिस्तान में इसके लिए एक सैली हुई थी जिसमें हाफिज सईद और सैयद सलाउद्दीन दोनों आतंकी आका शामिल थे और राजनाथ सिंह के पाकिस्तान आने का विरोध कर रहे थे।

वहीं भारत ने साफ कर दिया है कि पाकिस्तान में सार्क सम्मेलन के सिवाय पाकिस्तान के साथ और कोई बात नहीं होगी।

Loading...