RJD leader Shahabuddin surrenders after Supreme Court cancels

चार दिन की चांदनी के बाद फिर कालकोठरी, SC से शहाबुद्दीन की जनानत रद्द

चार दिन की चांदनी के बाद फिर कालकोठरी, SC से शहाबुद्दीन की जनानत रद्द

दिल्ली: बिहार में आरजेडी के बाहुबली नेता शहाबुद्दीन की जमानत सुप्रीम कोर्ट से रदद् हो गई है। जिसके बाद शहाबुद्दीन ने सीवान कोर्ट में सरेंडर कर दिया है। शहाबुद्दीन को पटना हाईकोर्ट से जमानत मिली थी। जिसके बाद बिहार सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में जमानत के खिलाफ अपील की थी। शहाबुद्दीन की जमानत के विरोध में चंदा बाबू की तरफ से भी सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की गई थी। शहाबुद्दीन की जमानत रद्द करने के साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने नीचली अदालत को निर्देश दिया है कि वो जल्द इस मामले में ट्रायल पूरा करे।

शहाबुद्दीन की तरफ से केस की पैरवी करते हुए उनके वकील शेखर नफाड़े ने कोर्ट में दलील दी थी कि चंदा बाबू के जिस तीसरे बेटे की हत्या का आरोप शहाबुद्दीन पर लगाया गया है उस वक्त वो जेल में थे। इसके जवाब में चंदा बाबू के वकील प्रशांत भूषण ने कहा कि शहाबुद्दीन जेल में था, लेकिन अपनी मर्जी से जब वो चाहता था बाहर आ जाता था और ये बात सीवान के मजिस्ट्रेट ने भी अपनी रिपोर्ट में बता दी थी।

पहली दलील खारिज होने के बाद शहाबुद्दीन के वकील की तरफ से दलील दी गई कि उनके मुवक्किल को अबतक चार्जशीट की कॉपी नहीं दी गई है। जिसपर सुप्रीम कोर्ट ने बिहार सरकार के वकील से जब इसपर सवाल किया तो उनके पास कोई जवाब नहीं था। तब सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी करते हुए कहा कि ये गंभीर बात है कि 17 महीने में अभियुक्त को चार्जशीट की कॉपी नहीं दी गई। इसपर चंदा बाबू के वकील प्रशांत भूषण ने कहा कि अभियुक्त ने चार्जशीट के कॉपी की मांग ही नहीं की। इसलिए ये आरोप बेबुनियाद है।

जब हर तरफ से शहाबुद्दीन की दलील खारिज हो गई तो आखिरी दांव चला गया बाहुबली नेता शहाबुद्दीन की तरफ से। उसके वकील ने कहा कि कोर्ट चाहे जो शर्त लगा दे, अगर कोर्ट कहे तो वो बिहार छोड़ने के लिए भी तैयार हैं लेकिन उनकी जमानत रद्द न की जाए। लेकिन सुप्रीम कोर्ट के सामने जमानत बरकरार रखने की शहाबुद्दीन एक भी दलील काम न आई। और उसकी जमानत रद्द कर दी गई। अब आरजेडी के बाहुबली नेता शहाबुद्दीन दोबारा जेल की सलाखों के पीछे पहुंच गए हैं।

Loading...

Leave a Reply