दिल्ली सरकार की इफ्तार पार्टी में सबकुछ था लेकिन ‘विश्वास’ नहीं

नई दिल्ली:  दिल्ली में दिल्ली सरकार ने शुक्रवार को इफ्तार पार्टी का आयोजन किया था। दिल्ली सरकार के इस इफ्तार पार्टी का आयोजन उर्दू एकेडमी की तरफ से की जाती है। उर्दू एकेडमी के चेयरमैन दिल्ली के सीएम हैं। इस इफ्तार पार्टी की चर्चा इसलिए हो रही है क्योंकि यहां न तो दो साल पहले वाली रौनक दिखाई दे रही थी और ना है इस इफ्तार पार्टी में विश्वास की झलक थी।

जिस विश्वास की चर्चा यहां की जा रही है वो मन में पैदा होने वाला विश्वास नहीं बल्कि उस विश्वास की हो रही है जो ऐसे मौकों पर अकसर सीएम अरविंद केजरीवाल के बगल में दिखाई दिया करते थे। आपने ठीक पकड़ा है वो कुमार विश्वास ही हैं। इफ्तार पार्टी में हर आने जाने वाला वहां मौजूद चेहरों को गौर से पढ़ रहा था। चेहरे के हावभाव की रचना को समझने की कोशिश कर रहा था। मीडिया के कैमरे भी जूम इन और जूम आउट किये जा रहे थे।

लेकिन बहुत ढूंढने के बाद भी कुमार विश्वास कहीं नजर नहीं आए। जिसके बाद ये साफ हो गया कि आप के भीतर की मन की खटास ने अब खाई की शक्ल ले ली है। जिसे अब ना तो आप के संयोजक अरविंद केजरीवाल पार कर सकते हैं और ना ही उस खाई की दूसरी तरफ खड़े कुमार विश्वास। आप के दो धड़ों के इस फासले के बीच ही इफ्तार पार्टी का टेबल सजाया गया। जहां पानी की बोतल से लेकर खाने पीने की चीजों को करीने से सजाया गया था लेकिन विश्वास के लिए वहां कोई जगह नहीं थी।

इस गैर मौजूदगी के बारे में जब कुमार विश्वास से पूछा गया तो उन्होंने कहा हमें बुलाया ही नहीं गया। विश्वास के इस जवाब पर इफ्तार पार्टी के लिए निमंत्रण भेजने वाली उर्दू अकेडमी ने कहा कि विश्वास को आमंत्रित किया गया था। यहां ये बताना भी जरुरी है कि जिस उर्दू अकेडमी की यहां बात हो रही है उसके चेयरमैन खुद सीएम अरविंद केजरीवाल हैं।

विश्वास का ये कहना कि उन्हें आमंत्रित नहीं किया गया चर्चा का विषय बन गया। बात और ना बढ़ जाए इसके लिए ऊर्दू अकेडमी के उपाध्यक्ष माजिद देवबंदी ने सफाई दी कि कुमार विश्वास को स्पीड पोस्ट से आमंत्रण दिया गया था। अगर माजिद देवबंदी की बात को सही माना जाए तो यही कहा जा सकता है कि अब आप में न पहले वाली गति रही और ना ही पुराने रिश्तों को लेकर वो गर्मजोशी। वरना विश्वास को लेकर इस तरह से सवाल नहीं पूछे जाते। और आप का स्पीड पोस्ट वाला आमंत्रण थककर बीच में ही बैठ नहीं जाता।

Loading...

Leave a Reply