पाकिस्तान बौखलाया क्यों, सुनिये गृहमंत्री राजनाथ सिंह की जुबानी, VIDEO

दिल्ली: गुरुवार को इस्लामाबाद से वापस लौटने के बाद गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को संसद को सार्क बैठक के बारे में जानकारी दी। राज्यसभा में राजनाथ सिंह ने बताया कि उन्होंने वहां आतंकवाद से जुड़े मुद्दे उठाए। जिसमें उन्होंने कहा ‘केवल आतंकवादियों को नहीं बल्की उसका समर्थन करनेवाले देश को खिलाफ भी कार्रवाई होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि आतंकवाद अच्छा या बुरा नहीं होता। दक्षिण एशिया के लिए सबसे बड़ा खतरा आतंकवाद ही है। मैंने उस जड़ के खात्मे का आह्वान किया। किसी भी देश का आतंकी हीरो नहीं हो सकता। आतंकवाद पर दुनिया की तरफ से बनाए गए बैन का सम्मान हो। सभी सार्क देशों ने आतंकवाद की निंदा की। मैंने सभी से अपील की कि आतंकियों का महिमामंडन बंद किया जाए। पाकिस्तान समझौते पर अमल नहीं कर रहा है।‘

‘मेरे साथ कैसा व्यवहार हुआ इसे बताने में मुझे संकोच है। मीटिंग खत्म होने के बाद वहां के गृहमंत्री ने सबको लंच के लिए इनवाइट किया। और गाड़ी में बैठकर चले गए। देश की मर्यादा को ध्यान में रखकर जो मुझे करना चाहिए था वो मैंने किया। मैं वहां भोजन करने नहीं गया था। यदि मुझे वहां विरोध की चिंता होती तो मैं वहां नहीं गया होता। मैंने वहां कोई विरोध दर्ज नहीं कराया। वहां जो होना था वो हुआ।‘

‘मेरी स्पीच जो ब्लैकआउट कर दी गई, वहां की जो परंपरा है मुझे इसकी जानकारी नहीं है। बीएसएफ पहले से न गोली चलाए लेकिन यदि चल गई तो कोई बात नहीं। ये पड़ोसी है कि मानता ही नहीं।‘

गृह मंत्री राजनाथ सिंह के राज्यसभा में दिये गए इस बयान पर कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा ‘हम सार्क में गृहमंत्री के दिये बयान का स्वागत करते हैं। जो भी राजनाथ जी ने मुद्दे उठाए हैं उनका हमारे देश में बुरा असर है। सबसे ज्यादा आतंकवाद का दंश कांग्रेस ने ही झेला है। हमारे दो पीएम इसके शिकार हुए हैं। हमारे जो भी मतभेद हैं बीजेपी के साथ वो देश के अंदर ही हैं। हम इसकी घोर निंदा करते हैं कि राजनाथ जी का बयान रोका गया। हम आतंकवाद के मसले पर आपके साथ हैं।‘

मायावती ने कहा हम ‘राजनाथ जी के बयान का समर्थन करते हैं। सभी दल इस मामले पर ऊपर उठें। इस मामले पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। पाक का रवैया इसबार इंडिया के साथ सही नजर नहीं आ रहा है। मैं राजनाथ जी से अपील करती हूं कि वो इस मामले को पीएम के साथ उठाएं और नीति बनाएं।‘

Loading...

Leave a Reply