अब राजधानी, दुरंतो और शताब्दी ट्रेनों में हवाई जहाज की तरह बढ़ेगा किराया

दिल्ली: महंगाई ने तो पहले से ही लोगों के माथे पर शिकन ला रखी है। हालात ये है कि जब ये सुनने को मिलता है सरकार आर्थिक मुद्दे पर बड़ा एलान करने जा रही है तो लोगों का खून पहले ही सूख जाता है। लोगों का ये भय फिजूल में नहीं है। इसबार भी ऐसा ही हुआ है जिसका असर 9 सितंबर से दिखाई देगा।

रेल मंत्रालय ने जो फैसला लिया है उसके मुताबिक राजधानी, दुरंतो और शताब्दी ट्रेनों में सफर करना काफी महंगा हो जाएगा। नए नियम के मुताबिक इन तीन ट्रेनों की दस फीसदी सीटों के अलावा बाकी की सीटों की बुकिंग के लिए बेस फेयर से 100 फीसदी तक ज्यादा किराया देना पड़ सकता है। किराये का ये नया सिस्टम डायनेमिक किराया सिस्टम की तरह ही है जिसे फ्लेक्सी किराया सिस्टम कहा जाता है।

इसके मुताबिक 9 सितंबर से राजधानी, दुरंतो और शताब्दी में दस फीसदी का अनुपात रखा गया है। मतलब ये है कि सभी श्रेणी के पैसेंजर्स को पहली दस फीसदी सीटों के लिए तो बेस फेयर यानि मौजूदा किराया ही देना होगा। लेकिन दस फीसदी सीटों के बुक होने के बाद अगले दस फीसदी के लिए किराये में दस फीसदी की बढ़ोतरी हो जाएगी।

फिर अगले दस फीसदी के लिए तीसरी दस फीसदी सीटों के लिए फिर से दस फीसदी किराया बढ़ जाएगा। इस तरह पचास फीसदी सीटें भरने के बाद अंतिम पचास फीसदी सीटों के पैसेंजर को पचास फीसदी अतिरिक्त किराया देना होगा। इन ट्रेनों के फर्स्ट एसी के पैसेंजर्स के लिए हर दस फीसदी सीटों पर किराया बढ़ता जाएगा। यानि इस क्लास के पैसेंजर्स को अंतिम दस फीसदी के लिए तकरीबन डबल किराया देना होगा।

आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक 9 सितंबर से इसी नए नियम के तहत इन तीन ट्रेनों में किराया वसूला जाएगा। माना जा रहा है रेलवे घाटे से उबरने के लिए किराये के इस नए सिस्टम को लेकर आया है।

-Indian Railway, Suresh Prabhu

Loading...