रेलवे प्रस्ताव:गांधी जयंती पर ट्रेन में नहीं परोसा जायेगा मांसाहारी भोजन

नई दिल्ली:रेलवे द्वारा एक प्रस्ताव को अगर मंजूरी मिल गयी तो दो अक्टूबर को देश में न सिर्फ राष्ट्रीय ‘स्वच्छता दिवस’ मनाया जाएगा ।साथ ही शाकाहार के सबसे मशहूर पैरोकार रहे महात्मा गांधी के सम्मान में उनकी जयंती को ‘शाकाहार दिवस’ के रूप में भी मनाया जाएगा।

रेलवे की इन योजनाओं के लिए संस्कृति मंत्रालय की मंजूरी आवश्यकता है क्योंकि महात्मा गांधी के विशेष स्मृति आयोजनों के लिए वह नोडल मंत्रालय है। प्रस्ताव को संस्कृति मंत्रालय से मंजूरी का इंतजार रेलवे बोर्ड द्वारा तैयार एक प्रारूप के मुताबिक दो अक्टूबर 2018, 2019 और 2020 को रेलवे परिसरों में यात्रियों को मांसाहारी खाना नहीं दिया जाएगा।

प्रस्ताव को ऐसे समय तैयार किया गया है जब केंद्र सरकार द्वारा महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर विशेष समारोह मनाने की योजना बनाई गई।शाकाहार दिवस’ मनाने के अलावा रेलवे ने साबरमती से गांधीजी से जुड़े विभिन्न स्टेशनों के लिए ‘स्वच्छता एक्सप्रेस’ और दांडी मार्च के उपलक्ष्य में 12 मार्च को साबरमती से एक ‘विशेष नमक रेल’ चलाने की योजना बनाई गई।

रेलवे ने महात्मा गांधी की वाटरमार्कतस्वीर के साथ टिकटें जारी करने की योजना भी बनाई है। साथ ही उसकी योजना महात्मा गांधी से जुड़े सभी स्टेशनों पर थीम पेंटिंग की भी योजना है।

संस्कृति मंत्रालय द्वारा डिजायन एक लोगो को ट्रेन कोचों के दरवाजे के पास लगाने का भी प्रस्ताव है जहां सीट नंबर प्रदर्शित किए जाते हैं।इस महीने की शुरुआत में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की अध्यक्षता में महात्मा गांधी की 150वीं जयंती समारोह की तैयारियों को लेकर ‘राष्ट्रीय समिति’ की पहली बैठक की गयी थी।

Loading...