राहुल की पहली सभा में लुट गई खटिया, आगे क्या होगा?

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में चुनाव जीतने के लिए कांग्रेस ने एक नया प्रयोग किया। सोच ये थी कि इसबार जनता से संवाद जमीन और मचान पर बैठकर नहीं बल्की खाट पर बैठकर किया जाएगा। इसकी शुरुआत यूपी के देवरिया से की गई। कांग्रेस की इस शुरआत को चुनावी अभियान की शुरुआत मानी जा रही है। खुद राहुल गांधी इसकी अगुवाई कर रहे हैं। 25 दिनों की इस यात्रा में राहुल 2500 किलोमीटर का सफर तय करेंगे और ये अभियान देवरिया से शुरु होकर दिल्ली में खत्म होगा।

देवरिया में सभा हो गई। जितने किसानों के सभा में पहुंचने की उम्मीद की गई थी उतने पहुंच भी गए। मतलब जितने खाट थे वो सभी फुल हो गए। राहुल गांधी ने किसानों के साथ संवाद में बिजली का मुद्दा उठाया और सरकार पर निशाना साधा। राहुल ने कहा कि मोदी सरकार को किसानों की फिक्र नहीं है। उन्होंने कहा कि बिजली का बिल आधा किया जा सकता था लेकिन उसे नहीं किया गया। खैर राहुल की सभा पूरी हो गई। अपनी बात कहकर राहुल सभा स्थल से निकल पड़े। लेकिन उसके बाद का जो नजारा था उसे देखकर लोग यही कह रहे हैं कि कांग्रेस की खाट खड़ी हो गई।

राहुल के सभा स्थल से निकलने के साथ ही शुरु हो गई खटिया की लूट। जिसके हाथ जितना खटिया आया उसे लेकर लोग चलते बने। किसी ने एक तो किसी ने दो और किसी ने तीन। किसी ने एक हाथ में लड्डू पकड़ रखे थे और दूसरे हाथ में कांग्रेस की खटिया। अगर कोई खाली हाथ रह गया था तो उसकी नजर उनपर थी जिन्होंने दो-दो खटिया पर अपना कब्जा जमाया था। कई लोग यही सोचकर आपस में भिड़ गए कि उसके पास दो और मेरे पास एक भी नहीं। ये कैसे हो सकता है।

कुल मिलाकर देवरिया में कांग्रेस की खाट पर चर्चा खत्म होने के बाद हालात बिल्कुल बदल गए। लोग वहां लगे रेलिंग को फांदकर उस मंच तक पहुंच गए जहां राहुल बैठकर भाषण दे रहे थे। क्योंकि सभी को अपने हिस्से कम से कम एक खाट लाना था। इस अफरातफरी को देखकर ये भी कहा जा रहा है कि लोग राहुल को सुनने नहीं बल्कि खाट लूटने आए थे।

-Rahul Gandhi, Congress Party, Narendra Modi

Loading...

Leave a Reply