मैं पीएम होता तो नोटबंदी के फैसले को कचरे के डिब्बे में फेंक देता-राहुल गांधी

प्रियांशु आनंद/डेस्क

दिल्ली:  राहुल गांधी ने मोदी सरकार के 500 और 1000 के नोट बंद करने के लिए की गई नोटबंदी पर करारा वार किया है। मोदी सरकार के नोटबंदी के फैसले पर सवाल उठाते हुए राहुल ने कहा अगर मैं प्रधानमंत्री होता तो नोटेबन्दी प्रस्ताव को डस्टबिन(कचरे के डिब्बे) में फेंक देता। राहुल गांधी आज कल दक्षिण-पूर्व एशिया के देशों के दौरे पर हैं।शुक्रवार के दिन राहुल सिंगापूर में थे । उन्होंने सिंगापूर के प्रधानमंत्री ली सी लुंग से मुलाकात कर दोनों देशों के सम्बन्ध पर चर्चा की। उसके पश्चात शानिवार को मलेशिया की राजधानी कुअलालंपुर में भारतीय समुदाय के लोगो से बातचीत की । एक सवाल के जवाब में उन्होंने नोटबंदी पर कहा की अगर वो होते तो प्रस्ताव को कबाड़खाने में फेंक देते ।इससे भारत को बहुत नुकसान हो चुका है।

एक सवाल के जबाब में उन्होंने कहा कि मैं महिलाओं और पुरुष को एक समान नहीं समझत, बल्कि महिलाएं पुरुषों से कई गुणा बेहतर हैं।लगभग सभी देशों में महिलाओं के साथ भेदभाव किया जाता है। इसीलिए महिलाओं को पुरुष से ज्यादा अवसर मिलना चाहिए।

राहुल गांधी ने मलेशियन इंडियन कांग्रेस अध्यक्ष सुब्रमण्यम सतशिवम से राजधानी में मुलाकात कर फेसबुक पर मुलाकात के बारे में जिक्र करते हुए कहा, कि संगठन मूल रूप से अखिल भारतीय परिषद का हिस्सा है। जिसने मलेशिया की आजादी की लड़ाई में महत्वपूर्ण सहयोग के साथ हिस्सा लिया।

नोट बंदी के समय उनका रिएक्शन

नोट बंदी की घोषणा 8 नवंबर 2016 को हुई थी।जो कांग्रेस को पसंद नहीं आया था। उन्होंने इसकी घोर निंदा की थी। कहा था कि देश की आर्थिक स्थिति को ख़राब करने में नोट बंदी ही कारण होगा। यहां तक की मनमोहन सिंह ने तो कहा था कि यह कदम सरकार की संगठित लूट है।

Loading...