राफेल के साथ वायुसेना, उप प्रमुख बोले ‘राफेल नहीं मिला तो होगा नुकसान’

नई दिल्ली:  फ्रांस के साथ हुए राफेल लड़ाकू विमान सौदे और उसपर शुरु हुए विवाद ने सियासत में गर्मी ला दी है। जिस राफेल की लड़ाई अबतक दिल्ली में सत्ताधारी और विरोधी पार्टी के बीच लड़ी जा रही थी वो अब पाकिस्तान तक पहुंच गई है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सरकार को हर कदम पर घेर रहे हैं जबकि सत्ताधारी बीजेपी के नेता विपक्ष की तरफ से हो रहे हमले से सरकार को बचाने में जुटे हैं। यानि आक्रमण और बचाव दोनों तरफ से हो रहा है।

इस बीच वायुसेना के उप प्रमुख रघुनाथ नंबियार ने एक सवाल के जवाब में कहा कि जिस 30,000 करोड़ के ऑफसेट कॉन्ट्रैक्ट और अनिल अंबानी को फायदा पहुंचाने की बात की जा रही है उसमें मुझे लगता है लोगों को गलत जानकारी दी जा रही है। इसमें ऑफसेट के नाम पर 30,000 करोड़ी की बात नहीं है। जो दसॉल्ट है वह सिर्फ 6500 करोड़ का ही कॉन्ट्रैक्ट देगी, उससे ज्यादा का नहीं।

नंबियार से जब फ्रेंच मीडिया में अनिल अंबानी को राफेल डील में फायदा पहुंचाने के जिक्र पर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा जो डील 2008 में की जा रही थी, ये उससे कहीं ज्यादा अच्छी डील है। चाहे वो कीमत हो या फिर दूसरी चीजें। इसमें हमें अच्छी तकनीक, मेंटेनेंस सबकुछ मिल रही है।

केवल नंबियार ही नहीं बल्कि एयरफोर्स के डिप्टी चीफ शिरीष बबन देव ने भी इस डील की तारीफ की है। डील रिलायंस को दिये जाने के सवाल पर उन्होंने कहा ये बात कमर्शियल है। जो फ्रेंच कंपनी है उनको पता है कि ऑफसेट कॉन्ट्रैक्ट है। अब उसे कैसे सर्विस करना है, किसके पास जाना है। ये सरकार दबाव नहीं डाल सकती।

उन्होंने कहा कि राफेल पर चल रहे विवाद से एयरफोर्स को कोई नुकसान नहीं होगा। लेकिन राफेल के नहीं आने से एयरफोर्स को नुकसान होगा। हमें किसी भी कीमत पर राफेल चाहिए।

(Visited 16 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *