POK में पाकिस्तानी सरकार के खिलाफ भड़का विद्रोह, मीडिया पर लगी पाबंदी

मुजफ्फराबाद/POK: पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में 21 जुलाई को हुए चुनाव के बाद हालात बेकाबू हो गए हैं। स्थानीय लोगों ने पाकिस्तानी सरकार पर आरोप लगाया है कि चुनाव में जमकर पैसे बांटे गए और असल वोटरों को वोट नहीं देने दिया गया। उस चुनाव में कुल 41 सीटों के लिए वोटिंग हुई थी। जिसमें से पीएमएल (एन) को 32 सीटें हासिल हुई थीं। ये पार्टी पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ का पार्टी है। स्थानीय लोगों ने यहां तक कहा कि पाकिस्तान में जिस दल की हुकूमत होती है पाकिस्तान के कब्जे वाले इस इलाके में उसी दल की जीत होती है। चुनाव में हुई धांधली के विरोध में मुझफ्फराबाद, कोटली, चिनारी और मीरपुर में लोग सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे हैं।

चुनाव में हार गए मुस्लिम कांफ्रेंस के नेता के मुताबिक ‘चुनावों में हेराफेरी के बाद पीएमएल (एन) प्रोपगैंडा फैला रहा है और उसके नेता लोगों की हत्या कर रहे हैं। पीएमएल (एन) के सदस्यों ने मेरे दोस्त की भी हत्या कर दी। यदि प्रशासन हत्यारे के खिलाफ ठोस कार्रवाई नहीं करता है तो आगे होनेवाली घटनाओं के लिए प्रशासन खुद जिम्मेवार होगा।‘ इस चुनाव में मुस्लिम कांफ्रेंस और पीपीपी को तीन-तीन सीटें मिली हैं। राजनीतिक दल चुनाव की निष्पक्षता पर गंभीर सवाल खड़े कर रहे हैं।

मुडफ्फराबाद के नीलम घाटी के वोटर्स ने वोट न डालने देने की शिकायत की है। पीओके के पूर्व प्रधानमंत्री और मुस्लिम कांफ्रेंस के नेता बैरिस्टर सुल्तान मोहम्मद चौधरी ने कहा ‘चुनाव में भारी हेराफेरी की गई है। वोटर्स को खरीदा गया। मीरपुर इलाके में भी वोटर्स के बीच पैसे बांटने के मामले सामने आए।‘

स्थानीय लोगों के मुताबिक 2011 में पीओके में पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी ने सरकार बनाई थी। क्योंकि उस वक्त पाकिस्तान की सत्ता पर पीपीपी का कब्जा था। लोगों का आरोप है कि पीओके में वही होता है जो पाकिस्तानी हुकूमत चाहता है। स्थानीय लोगों को किसी तरह का अधिकार नहीं है।

पीओके में हर बार चुनाव के बाद इसी तरह से प्रदर्शन होता है। जिसके बाद मीडिया पर पाबंदी लगा दी जाती है। विदेशी पर्यवेक्षकों को भी वहां नहीं जाने दिया जाता है। क्योंकि इससे पाकिस्तान की पोल पट्टि खुल जाएगी। पीओके असेंबली हॉल समेत सरकारी दफ्तरों के सामने लोग प्रदर्शन कर रहे हैं। लेकिन पाकिस्तानी फौज और पुलिस इस प्रदर्शन को कुचलने में लगी है।

ये उसी पाकिस्तान का बदरंग चेहरा है जिसने कहा था कि कश्मीर में मानवाधिकार का उल्लंघन कर लोगों को पीटा जा रहा है। जो पाकिस्तान आतंकी बुरहान वानी के मारे जाने के बाद आंसू बहा रहा था। लेकिन पीओके से आनेवाली तस्वीरें पाकिस्तान के नापाक मंसूबे को सामने लाने के लिए काफी हैं।

Loading...