अब प्राइवेट कंपनियां बनाएंगी लड़ाकू विमान और पनडुब्बी

नई दिल्ली:  रक्षा मंत्रालय ने शनिवार को अहम फैसला लिया है। रक्षा खरीद परिषद ने स्ट्रेटजिक पार्टनरशिप को हरी झंडी दे दी है। इसके बाद अब प्राइवेट सेक्टर की कंपनी पनडुब्बी, लड़ाकू विमान और आर्मर्ड गाड़ियां बना सकेंगी। रक्षा मंत्रालय से मिली इस मंजूरी के बाद अब प्राइवेट कंपनियां विदेशी कंपनियों के सहयोग से हाईटेक इक्यूपमेंट का निर्माण कर सकेंगी।

इसके लिए रक्षा मंत्रालय ने गाइड लाइन भी तैयार की है। अब इसपर कैबिनेट कमेटी ऑन सिक्योरिटी की मंजूरी ली जाएगी। जिसके बाद ये पॉलिसी बन जाएगी। काफी वक्त इस बात की चर्चा हो रही थी। लेकिन आज उसमें ऐतिहासिक कदम बढ़ा दिया गया। इसके तहत चुनिंदा कंपनियों को पनडुब्बी और लड़ाकू विमान जैसे सैन्य प्लेटफॉर्म बनाने में शामिल किया जाएगा।

शुरुआत में यह नीति कुछ चुने हुए क्षेत्रों में लागू की जाएगी। जिसमें लड़ाकू विमान, पनडुब्बियों और बख्तरबंद गाड़ियों का निर्माण शामिल है। बाद में इसका और विस्तार किया जाएगा।

Loading...